Khas-KhabarNational

#CoronaEffects: स्कूल, कॉलेज बंद होने से 154 करोड़ से अधिक छात्र प्रभावित, पढ़ाई छोड़ने वाली छात्राओं की बढ़ेगी संख्या- UNESCO

New Delhi: कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया की रफ्तार रोक दी है. हर सेक्टर पर इसका प्रभाव पड़ा है. फिर चाहे वो उद्योग-धंधे हो, पर्यटन या फिर शिक्षा. यूनेस्को की मानें तो इस वायरस के कारण दुनियाभर के 154 करोड़ से भी अधिक छात्र प्रभावित हुए हैं.

यूनेस्को ने कहा है कि कोविड-19 के बीच दुनियाभर में शैक्षणिक संस्थानों के बंद होने से 154 करोड़ से अधिक छात्र गंभीर रूप से प्रभावित हुए हैं. इनमें भी लड़कियों पर इसका सबसे अधिक असर पड़ेगा, क्योंकि इससे पढ़ाई छोड़ने वाली छात्राओं की संख्या बढ़ेगी तथा शिक्षा में लैंगिक अंतर की खाई और गहरी होगी.

इसे भी पढ़ेंःस्वास्थ्यकर्मियों पर हमला किया तो हो सकती है 7 साल तक की सजा, 5 लाख का आर्थिक दंड भी

Catalyst IAS
ram janam hospital

यूनेस्को की शिक्षा के लिए सहायक महानिदेशक स्टेफेनिया गियानिनी ने एक इंटरव्यू में न्यूज एजेंसी पीटीआइ को बताया कि कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के कारण स्कूल बंद होना पढ़ाई बीच में छोड़ने की एक चेतावनी के साथ आया है. जिसका किशोरी लड़कियों पर ज्यादा असर पड़ेगा, शिक्षा में लैंगिक अंतर और बढ़ेगा तथा यौन शोषण, समय से पूर्व गर्भधारण तथा समय से पहले और जबरन विवाह का खतरा बढ़ेगा.

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

बढ़ेगा लड़कियों का ड्रॉप आउट रेट

उन्होंने पेरिस से फोन पर बताया, ‘‘विश्व भर में शिक्षा के लिए पंजीकृत छात्रों की कुल आबादी में से हमारा आकलन है कि 89 प्रतिशत से अधिक बच्चे कोविड-19 के कारण स्कूल नहीं जा पा रहे हैं. यह करीब 74 करोड़ लड़कियों समेत स्कूल या विश्वविद्यालय में पंजीकृत 154 करोड़ छात्रों की संख्या को दिखाता है. इन लड़कियों में से 11 करोड़ से अधिक दुनिया के सबसे कम विकसित देशों में रह रही हैं जहां शिक्षा हासिल करना पहले ही एक संघर्ष है.’’

इसे भी पढ़ेंः#Lockdown: कडरू के स्लम क्षेत्रों में लोगों को सरकार से मदद की दरकार, भुखमरी की आ सकती है नौबत  

गियानिनी के अनुसार, शरणार्थी शिविरों में रह रही या आंतरिक रूप से विस्थापित लड़कियों के लिए स्कूल बंद होना सबसे अधिक विनाशकारी है.
उन्होंने कहा, ‘‘सरकारों के अनिश्चितकाल के लिए स्कूलों को बंद करने की तैयारी करने के साथ ही नीति निर्माताओं और अन्य लोग लड़कियों के सामने आने वाली चुनौतियों से निपटने के लिए पूर्व के संकटों से सीख ले सकते हैं. हम सरकारों से लड़कियों की शिक्षा के लिए हासिल की गई प्रगति की रक्षा करने की अपील करते हैं.’’

दुनियाभर में 25 लाख से अधिक लोगों के कोरोना वायरस की चपेट में आने की पुष्टि हुई है और इनमें से 80 फीसदी मामले यूरोप तथा अमेरिका में हैं.

इसे भी पढ़ेंःचीन से आये किट दे रहे गलत रिपोर्ट, दो दिनों के लिए रोकी गयी कोरोना की रैपिड टेस्ट, चीन पर उठ रहे सवाल

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button