West Bengal

कोरोना से जंग जारी : कोलकाता में ऑनलाइन दर्शन पर जोर दे रहे हैं अधिकतर दुर्गा पूजा आयोजक

Kolkata :  कोविड-19 के मद्देनजर इस बार विभिन्न दुर्गा पूजा समितियों ने आगंतुकों के आगमन पर रोक लगाते हुए आभासी ‘दर्शन’ का प्रबंध किया है.

Jharkhand Rai

हालांकि कई अन्य दुर्गा पूजा संघों का कहना है कि यह महोत्सव समावेशिता की भावना से ओतप्रोत है और आगंतुकों को पंडालों में आने से नहीं रोका जा सकता. उन्होंने भीड़ को संभालने और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिये सभी जरूरी कदम उठाने का आश्वासन दिया है.

इसे भी पढ़ेंः बलिया गोलीकांडः 14 दिनों के लिए जेल भेजा गया मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप

बाहरी लोगों को आने की अनुमति नहीं

शहर के कम से कम दो बड़े पूजा आयोजकों संतोष मित्रा स्क्वायर और देबदारू फाटक ने घोषणा की है कि इस बार बाहरी लोगों को आने की अनुमति नहीं होगी. उन्होंने कहा है कि लोग उनके यू-ट्यूब चैनलों के जरिये माता दुर्गा की मूर्ति की झलक पा सकते हैं और रस्में अदा कर सकते हैं.

Samford

 

संतोष मित्रा स्क्वायर के सचिव सजल घोष ने कहा, ‘हर साल तंग गलियों से निकलकर लाखों लोग पूजा पंडाल पहुंचते हैं. इस बार इसकी अनुमति नहीं होगी. हमारे इलाके के लोग भी कोविड-19 की चपेट में आ सकते हैं. इसलिये हमने अपने पंडाल में आगंतुकों के आगमन पर अस्थायी पाबंदी लगा दी है.’

 

वहीं, संतोषपुर लेक पल्ली के सचिव सोमनाथ दास ने कहा, ‘हमने आगुंतकों के प्रवेश पर रोक नहीं लगाई है. इसके अलावा पंडाल भी इस तरह लगाए गए हैं कि लोग पंडाल से लगी सड़क से मूर्ति की झलक पा सकें. घर से दर्शन करने वाले लोग हमारी वेबसाइट पर लॉग-इन कर दर्शन कर सकते हैं.’

इसे भी पढ़ेंः कृषि से जुड़े सुधार किसानों को सशक्त कर रहे हैं : PM मोदी

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: