Corona_UpdatesJharkhandRanchi

हज यात्रा पर #Corona संकट, 2281 जायरीनों में से 36 ने वापस लिया आवेदन 

विज्ञापन

Ranchi: कोरोना संक्रमण के कारण सऊदी अरब सरकार ने अब तक मक्का मदीना में हर साल हज यात्रा पर आने वाले मुस्लिम धर्मावलंबियों के मामले कोई निर्णय नहीं लिया है. अप्रैल के अंतिम सप्ताह से देश दुनिया से हज यात्रा पर आनेवाले लोगों के इंतजाम किये जाने के मामले में वह अब तक आश्वस्त नहीं हो सका है. यही कारण है कि उसकी ओर से भारत सरकार को कोई औपचारिक सूचना नहीं दी गयी है.

ऐसे में केंद्रीय हज कमेटी ने जायरीनों के दूसरी किस्त की राशि जमा करने पर रोक लगा दी है. सऊदी अरब सरकार की ओर से यात्रा से संबंधित कोई नया आदेश जारी होने पर ही हज समिति की ओर से दूसरी और तीसरी किस्त राशि ली जायेगी. इधर झारखंड में हज यात्रा पर जाने की योजना बना चुके 36 लोगों ने निजी कारणों से यात्रा पर जाने का आवेदन वापस ले लिया है.

इसे भी पढ़ें- #Ranchi के जिस इलाके से मिली पहली कोरोना पॉजिटिव वहां कूड़ा नहीं उठायेंगे #CoronaWarriors, निगमकर्मी से मारपीट पर पूर्व पार्षद की गिरफ्तारी की मांग

दूसरी व तीसरी किस्त की राशि एकमुश्त लिए जाने की संभावना

कोरोना संक्रमण के बढ़ते खतरे के मद्देनजर इस साल हज यात्रा पर जाने वाले लोग निराश हो सकते हैं. सऊदी सरकार से कोई नयी जानकारी अभी नहीं दिये जाने के कारण केंद्रीय हज कमेटी ने जायरीनों के दूसरी किस्त की राशि जमा करने पर रोक लगा दी है.

इस संबंध में केंद्र की ओर से झारखंड समेत देश के सभी राज्य हज कमेटियों को पत्र भेजा गया है. इसके अनुसार यह भी कहा गया है कि सऊदी सरकार अगर हज यात्रियों को अपने देश में आने की अनुमति देती है तो जायरीनों से दूसरी व तीसरी किस्त की राशि एक साथ जमा ली जाएगी.

पत्र के मुताबिक यह भी कहा गया है कि अगर यात्रा रद्द की जाती है तो ऐसी स्थिति में सरकार हज यात्रियों की ओर से जमा पहली किस्त की राशि उन्हें लौटा देगी.

इसे भी पढ़ें- 5 अप्रैल को 9 मिनट लाईट बुझाने और मोमबत्ती जलाने के चक्कर में ना हो जाये पूरे देश की बिजली गुल

2281 जायरीनों में से 36 ने यात्रा रद्द करने का दिया पत्र

इस वर्ष हज यात्रा पर जाने के लिए झारखंड से कुल 2281 जायरीनों ने आवेदन भरकर केंद्रीय हज कमेटी में जमा किया है. इसमें राजधानी रांची के 450 लोग शामिल हैं. आवेदन जमा करने वाले जायरीनों ने पहली किस्त के रूप में प्रावधान के अनुसार केंद्रीय हज कमेटी के खाते में 81,000 रुपए जमा भी कर दिए हैं. हालांकि केंद्रीय हज कमेटी की ओर से जारी पत्र के बाद हज यात्रियों में असमंजस की स्थिति बनी हुई है.

कोरोना वायरस को लेकर कई हज यात्री अपनी यात्रा भी कैंसिल करने की भी तैयारी में हैं. इसे लेकर वे झारखंड राज्य हज कमेटी के पदाधिकारियों से भी संपर्क कर चुके हैं. कमेटी के अनुसार अब तक 36 लोगों ने अपने यात्रा कार्यक्रम को निजी कारणों से स्थगित कर दिया है. पैसे के अभाव, बीमारी और अन्य जरुरी कारणों से उन्होंने ऐसा किया है.

इसे भी पढ़ें- Good News :  रेलवे ने 15 अप्रैल से सेवाएं बहाल करने के लिए तैयारी शुरू की, राजस्थान में चरणबद्ध खत्म हो सकता है लॉकडाउन

तीन किस्तों में ली जाती है राशि

झारखंड राज्य हज समिति के पूर्व सदस्य मुजीबुर्रहमान के अनुसार हज यात्रा पर जानेवालों से 2 लाख 85 हजार रुपये की राशि केंद्रीय हज समिति द्वारा ली जाती है. यात्रा करनेवाले आवेदन फॉर्म भरने के बाद पहली किस्त के तौर पर 81 हजार जमा करते हैं. इसके बाद दूसरी किस्त के लिए 1.20 लाख रुपये लिये जाते हैं. जिनके पैसे जमा हो जाते हैं, वे पासपोर्ट, वीजा की तैयारी करने लगते हैं. बाकी पैसे तीसरी किस्त में देने होते हैं.

15 फ़रवरी तक पहली किस्त की राशि के लिए समय तय था. दूसरी किस्त के लिए 15 मार्च को केंद्रीय हज समिति के निर्देश पर 31 मार्च कर दिया गया था. फिलहाल तो दूसरी किस्त की राशि जमा करने पर रोक लगी हुई है. जो लोग दूसरी किस्त के पैसे जमा नहीं कर पाये, वे अब अगले आदेश पर एक साथ तीनों किस्त जमा कर सकेंगे.

फिलहाल इस बार कोरोना के कारण हज यात्रा के ऊपर ही संशय के बादल हैं. केंद्र द्वारा यात्रा स्थगित किये जाने के मामले में जिन्होंने पैसे अब तक जमा किये हैं, उन्हें केंद्रीय समिति पैसे वापस कर देगी.

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: