JharkhandSimdega

सहयोग विलेज संस्था बरत रही है अनियमितता, सरकारी राशि का हो रहा दुरुपयोग : आयोग

Simdega : बाल अधिकार संरक्षण आयोग के सदस्य रविंद्र कुमार गुप्ता, भूपन साहू गुरुवार को सिमडेगा पहुंचे. यहां पर सरकार के बाल सुधार गृह तथा सहयोग विलेज संस्था द्वारा चलाये जा रहे आश्रय गृह का निरीक्षण किया. सर्किट हाउस में पत्रकारों को संबोधित करते हुए श्री गुप्ता ने कहा कि निरीक्षण के दौरान सरकार द्वारा संचालित बाल सुधार गृह में कमोबेश स्थित ठीक पायी गयी. यहां पर आवश्यक सुधार के निर्देश दिये गये हैं. सहयोग संस्था द्वारा संचालित आश्रयगृह में काफी त्रुटिंयां पायी गयी.  रविंद्र कुमार गुप्ता ने कहा कि संस्था द्वारा भारी अनियिमततायें बरती गयी हैं. सरकारी राशि का दुरुपयोग हो रहा है.

इसे भी पढ़ें- केंद्र ने इस बार भी डीके पांडेय को डीजी रैंक में नहीं किया इंपैनल, DG Equlvalent level में…

संस्था द्वारा सरकार के नियमों का पालन नहीं किया जा रहा है

Sanjeevani

श्री गुप्ता ने कहा कि संस्था द्वारा सरकार के नियमों का पालन नहीं किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि आश्रय गृह में सीसीटीवी कैमरा तक नहीं था. उन लोगों के आने की सूचना पर आज सीसीटीवी कैमरा लगाया गया है. बताया कि जहां 20 कर्मचारी होने चाहिये वहां पर सिर्फ 6 कर्मचारी से ही काम लिया जा रहा है. परिसर बहुत ही गंदा पाया गया.  सरकार के नियमों के अनुसार 8500 स्क्वायर फीट में आश्रय गृह होना चाहिये,  किंतु वर्तमान में सिर्फ 18 सौ स्क्वायर फीट में ही संस्था का आश्रय गृह संचालित है. एक सवाल के जवाब में श्री गुप्ता ने कहा कि पिछले एक वर्ष तक संस्था को सरकार द्वारा राशि दी गयी है.  

संस्था  त्काल सरकार के नियमों का पालन नहीं करती तो   कार्रवाई की जायेगी.  श्री गुप्ता ने बताया कि सरकार के निर्देश पर राज्य भर में तीन टीम बना कर बाल सुधार गृहों तथा आश्रय स्थलों का निरीक्षण किया जा रहा है.  इस अवसर  पर आयोग के सदस्य भूपन साहू, समाज कल्याण पदाधिकारी इस्लामुल हक, डीईओ, डीएसई, तेजबल शुभम, आलोक वर्मन, किरण चौधरी, मीरा केशरी, मीरा प्रसाद के अलावा अन्य लोग भी उपस्थित थे.

 बानो की लड़की की सराहना, आवासीय विद्यालय में   नामांकन  का  निर्देश 

बानो की एक नाबालिग लड़की शादी के मंडप से पिछले दिनों भाग कर गुमला पुलिस के पास आ गयी थी.  लड़की ने कहा था कि वह अभी पढना चाहती है. शादी नहीं करना चाहती. लड़की की इस हिम्मत को आयोग के सदस्यों ने सराहा. आयोग के सदस्य रविंद्र गुप्ता ने जिला शिक्षा अधीक्षक को उक्त लड़की का नामांकन तत्काल कस्तूरबा आवासीय विद्यालय में कराने का निर्देश दिया.

 थाना प्रभारी को प्रशस्ति पत्र दिया जायेगा

आयोग के सदस्य रविंद्र गुप्ता ने एएचटीयू थाना प्रभारी राजे कुजूर के कार्यो की  सराहना की. श्री गुप्ता ने कहा कि राजे कुजूर के प्रयास से दिल्ली तथा अन्य महानगरों से काफी संख्या में ट्रेफिकिंग की शिकार लड़कियों को वापस लाया गया है. उन्होंने कहा कि उक्त कार्य के लिये आयोग द्वारा  एएचटीयू थाना प्रभारी तथा एसपी को प्रशिस्त पत्र दिये जायेंगे 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

Related Articles

Back to top button