न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राजवीर इंफ्राकोन के कई प्रोजेक्ट में विवाद

राजधानी रांची के हरमू, रातू रोड, मोरहाबादी, चुटिया में बन रहे हैं अपार्टमेंट

34

Ranchi: राजधानी रांची के राजवीर इंफ्राकोन प्राइवेट लिमिटेड के कई प्रोजेक्ट विवादों के घेरे में हैं. हरमिंदर सिंह बेदी की ओर से 2008 में गठित कंपनी के आधा दर्जन से अधिक रीयल इस्टेट प्रोजेक्ट सिर्फ रांची में चल रहे हैं. इस कंपनी की तरफ से सीएनटी फ्री जमीन पर शानदार अपार्टमेंट बनाने का दावा किया जाता है. पर इसके हरमू रोड, चंदवे और मुकचुंद टोली चुटिया के प्रोजेक्ट विवादों के घेरे में हैं. झारखंड राज्य आवास बोर्ड की तरफ से हरमू आवासीय कालोनी में आवंटित जमीन पर ब्लू शैफायर अपार्टमेंट में 79 फ्लैट बनाये गये हैं. इनका हालिया प्रोजेक्ट मुकचुंद टोली चुटिया का शैफायर गार्डेन है. यहां पर 89 फ्लैट बनने हैं. इसकी जमीन को लेकर ही विवाद है. सूत्रों का कहना है कि राजवीर इंफ्राकोन की तरफ से आदिवासी जमीन प्रोजेक्ट के लिए ली गयी है. कंपनी में कई सफेदपोश लोगों की भी फंडिंग की बात सामने आ रही है. ऑक्सफोर्ड पब्लिक स्कूल चुटिया के समीप इस प्रोजेक्ट को कंपनी की तरफ से सबसे बड़ा प्रोजेक्ट बताया जा रहा है. कंपनी की परियोजनाएं न्यू पिस्का मोड़, मोरहाबादी के चिरौंदी, हरमू नदी के पास, काजू बगान और अन्य जगहों पर चल रही हैं.

कौन हैं हरमिंदर सिंह बेदी

हरमिंदर सिंह बेदी भारतीय जनता पार्टी के कद्दावर नेता हैं. इनके अच्छे संबंध कई पूर्व मुख्यमंत्रियों से रहे हैं. कुछ राजनेताओं और उनके करीबियों का पैसा भी राजवीर इंफ्राकोन में लगे होने की बात सामने आ रही है. इनकी कंपनी में सुमित अग्रवाल, प्रताप पारुई, अमरजीत गिरधर निदेशक हैं. श्री बेदी की कंपनी की अधिकृत पूंजी 50 लाख है, जबकि पेड अप कैपिटल भी 50 लाख रुपये ही है. कंपनी की वार्षिक आमसभा 27 सितंबर 2017 को हुई है. इतना ही नहीं कंपनी के निदेशक मंडल के सहयोगी सुमित अग्रवाल के नेतृत्ववाली इंडिया इंफ्रानिर्माण लिमिटेड, आस्था प्रोकोन प्राइवेट लिमिटेड, कश्यप इंफ्रा डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड, एकता बिल्डवेल प्राइवेट लिमिटेड और जेनिथ इंफ्रा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड भी सहयोगी कंपनियों की सूची में शामिल हैं. एक अन्य निदेशक प्रताप पारुई के नेतृत्ववाली बालाजी मिनरल्स एंड ट्रांसपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड, बालाजी डिजाइन कंसेप्ट प्राइवेट लिमिटेड, इहा मेवरेक प्राइवेट लिमिटेड, अर्घयम डिवाइन प्रोडक्ट्स लिमिटेड कंपनियां भी राजवीर इंफ्राकोन से जुड़ी हुई हैं. कंपनी के अन्य निदेशक अमरजीत गिरधर केसी अपारेल्स के मालिक हैं. राजवीर इंफ्राकोन से जुड़ी कंपनियां कोलकाता, हिमाचल प्रदेश, नयी दिल्ली के नेब सराय, अपर बाजार रांची, डोरंडा रांची के नार्थ ऑफिस पाड़ा में हैं. राजीव इंफ्राकोन का पता रांची के इस्टर्न माल का है.

कहां-कहां चल रहा है प्रोजेक्ट     

silk_park

राजीव इंफ्राकोन के रीयल इस्टेट प्रोजक्ट ब्लू शैफायर, किंग्स शैफायर, आशा अपार्टमेंट, शैफायर रेसीडेंसी, होटल ब्लू शिवालिक, शैफायर हिल, शैफायर हाइट्स, शैफायर गार्डेन और शैफायर विला के नाम से है.

इसे भी पढ़ें – बिजली विभाग के जेई से मारपीट मामले में पूर्व विधायक नियेल तिर्की गिरफ्तार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: