न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बिहारः गठबंधन में विवाद, आरजेडी ने कांग्रेस से कहा- 13 तक फैसला ले

247

New Delhi: लोकसभा चुनाव में जहां एक ओर पार्टियां गठबंधन बनाने में जुटी हैं वहीं आपसी खींचतान भी जारी है. चुनाव से पहले विपक्षी एकता की कोशिशों को लगातार झटका लग रहा है. दिल्ली में आम आदमी पार्टी से कांग्रेस का गठबंधन नहीं हो पाने के बाद अब बिहार में भी गठबंधन की गांठे खुलने की नौबत है. राज्य की 40 सीटों पर अब तक कोई सहमति नहीं बन पाई है. राजद और दूसरे सहयोगियों ने कांग्रेस से 13 मार्च तक स्थिति साफ करने को कहा है, नहीं तो वे अपने स्तर पर कोई फैसला ले सकते हैं.

इसे भी पढ़ें – मिग-21 बाइसन के पाकिस्तानी एफ-16 को गिराने के इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्य हैं : एमईए

कांग्रेस मांग रही 12 सीटें

40 सीटों पर राजद, कांग्रेस के अलावा मुकेश सहनी, उपेंद्र कुशवाहा, जीतनराम मांझी, शरद यादव की पार्टी भी गठबंधन में चुनाव लड़ने का ऐलान कर चुकी थीं. लेकिन इनके बीच सीटों के बंटवारे का मामला फंस गया. कांग्रेस कम से कम 12 सीटें मांग रही है जबकि आरजेडी ने कांग्रेस को अधिकतम 10 सीटें देने की बात कही है. राजद ने कांग्रेस से यह भी बताने को कहा है कि इन सीटों पर कैसे उम्मीदवार होंगे जिससे सभी 40 सीटों का संतुलन बनाया जा सके. दोनों दलों के बीच कुछ नामों को लेकर विवाद सामने आ रहे हैं. मौजूदा गठबंधन में और साथियों को जोड़ने की राजद की इच्छा है. राजद का कहना है कि कांग्रेस के फैसले के बाद बीएसपी और वाम दलों के लए भी संभावनाएं तलाशी जायेंगी. जिससे मतों का बंटवारा रुक सके. आरजेडी की मंशा है कि राज्य में बीएसपी और सीपीआइ को भी एक-एक सीट दी जाये.

इसे भी पढ़ें – पांच साल में भारत ने तीन बार सीमा पार हमले किए : राजनाथ सिंह

राजद इंतजार के मूड में नहीं

राजद अब औऱ ज्यादा इंतजार करने के मूड में नहीं है. उसका मानना है कि चुनाव की तैयारियों में पहले ही काफी विलंब हो चुका है. कांग्रेस जल्द से जल्द इस मुद्दे पर फैसला ले. क्या गठबंधन टूट भी सकता है. इस सवाल के जवाब में राजद सूत्रों का कहना है कि अभी ऐसी स्थिति नहीं है, लेकिन अब औऱ इंतजार नहीं किया जा सकता. कांग्रेस जल्द से जल्द फैसला ले. सूत्रों की मानें तो पटना में आरजेडी ने बाकी सभी सहयोगी दलों के नेताओं के साथ मीटिंग की जिसमें तय किया गया कि कांग्रेस से कहा जाएगा कि वह तय समय सीमा में स्थिति साफ कर दे.

इसे भी पढ़ें – नीरव मोदी के प्रत्यर्पण के लिए ब्रिटेन को हर जरूरी मदद उपलब्ध कराई जायेगी : सीबीआइ

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: