West Bengal

ठेका श्रमिकों ने न्यूनतम मानदेय की मांग पर तीसरे दिन भी किया भानोडा ओसीपी में कार्य ठप

Asansol: कोल इंडिया की हाई पावर कमेटी द्वारा इसीएल की खदानों में ठेकेदारों के अधीन कार्यरत ठेका श्रमिकों को प्रतिदिन 893 रुपये के न्यूनतम मानदेय की मांग पर भानोडा ओसीपी में कार्यरत 241 ठेका श्रमिकों ने शुक्रवार को तीसरे दिन भी काम ठप रखा.

इसे भी पढ़ें – ममता बनर्जी ने कहा, देश की बदहाल #Economy से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए चंद्रयान-2 मिशन का इस्तेमाल कर रही है मोदी सरकार

लगातार तीसरे दिन भी प्रबंधन एवं ठेकेदारों के स्तर से किसी प्रकार की बातचीत की पेशकश न होता देख आक्रोशित ठेका श्रमिकों ने अपनी मांगों के समर्थन में अनिश्चिकालिन हड़ताल पर जाने की घोषणा की.

ram janam hospital
Catalyst IAS

भानोडा ओसीपी में डंपर चालक, पे-लोडर चालक, ट्रक चालक ठेका श्रमिकों शेख मोहम्मद, मुकेश दास, शेख इरफान, मनोज चक्रवर्ती, भैरव बाउरी, आनंद सिंह ने कहा कि कोल इंडिया की हाई पावर कमेटी द्वारा एक अप्रैल 2019 से जारी दिशा निर्देश को इसीएल के सोनपुर बाजारी सहित कई एरिया में लागू कर दिया गया है. परंतु भानोडा ओसीपी में कार्यरत ठेका श्रमिकों को नये मानदेय के अनुरूप पारिश्रमिक नहीं दिया जा रहा है. इसको लेकर वरीय अधिकारियों से भी बातचीत की गयी परंतु कोई परिणाम नहीं मिल पाया है.

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

इसे भी पढ़ें – तृणमूल के सांगठनिक विस्तार एवं नयी बूथ कमेटी के गठन को लेकर बैठक 

श्रमिकों ने कहा कि ठेकेदार उन्हें भी अलग-अलग पारिश्रमिक किसी को आठ हजार, नौ हजार आदि देते हैं. श्रमिकों को पे-स्लिप नहीं दिया जाता है. ठेकेदार कहते हैं कि वे पीएफ में पैसे जमा कराते हैं. परंतु हमारे पास इसका कोई प्रमाण नहीं है.

ठेका श्रमिकों के हड़ताल पर चले जाने से विगत तीन दिनों से भानोडा ओसीपी में कोयले की ढुलाई व अन्य कार्य प्रभावित हो रहे हैं. भानोडा ओसीपी के किसी अधिकारी ने मामले को लेकर टिप्पणी से करने से इंकार किया.

इसे भी पढ़ें – 24 सितंबर को पूरे कोल इंडिया में एक दिन की होगी आम हड़ताल

Related Articles

Back to top button