West Bengal

लगातार बारिश से उत्तर बंगाल में जनजीवन अस्त-व्यस्त, अभी होती रहेगी बारिश

Kolkata/Jalpaigudi: मानसून की वजह से उत्तर बंगाल के पांच जिलों में लगातार हो रही बारिश की वजह से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. अलीपुर स्थित मौसम विभाग के क्षेत्रीय मुख्यालय की ओर से शुक्रवार अपराह्न जारी बयान में बताया गया है कि गुरुवार रात से ही अलीपुरद्वार, कूचबिहार में भारी बारिश की शुरुआत हो गयी थी.

दार्जिलिंग, कालिमपोंग में भी भारी बारिश हो रही है. अलीपुरद्वार जिले में तो 75 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गयी है जिसकी वजह से बाढ़ जैसे हालात बन गये हैं. मौसम विभाग ने अलर्ट जारी करते हुए कहा है कि रविवार तक भारी बारिश होती रहेगी. उत्तर के साथ दक्षिण बंगाल में हालात लगभग एक जैसे हैं.

कोलकाता के अलावा हावड़ा, हुगली, उत्तर और दक्षिण 24 परगना, बांकुड़ा आदि जिले में लगातार बारिश हो रही है. शुक्रवार को कोलकाता में अधिकतम तापमान 34 डिग्री सेल्सियस है. एक तो मानसून और आसमान में बादल छाये रहने के कारण समुद्र तट पर निम्न दबाव बना हुआ है जिसके कारण लगातार बारिश हो रही है.

रविवार तक भारी बारिश होगी जिसकी वजह से उत्तर बंगाल के साथ-साथ दक्षिण बंगाल में भी बारिश से बाढ़ जैसे हालात बन सकते हैं. लोगों को बिना वजह घर से नहीं निकलने की सलाह दी गयी है. समुद्र में मछुआरों के जाने पर पूरी तरह से पाबंदी लगायी गयी है. सरकार ने जिला प्रशासन को अलर्ट पर रखा है ताकि किसी भी तरह की परिस्थिति से निपटा जा सके.

इसे भी पढ़ें – जैक रिजल्ट में आवासीय स्कूलों का दबदबा, 54 आवासीय स्कूलों का 90 फीसदी रहा रिजल्ट

तीस्ता नदी का जल स्तर बढ़ा, लाल संकेत जारी

पिछले 24 घंटे से पहाड़ व समतल में हो रही लगातार बारिश से जलपाईगुड़ी के तीस्ता नदी का पानी खतरे के निशान से ऊपर है. इसे देखते हुए तीस्ता नदी के दोमहनी से बांग्लादेशी सीमावर्ती क्षेत्र के मेखलीगंज तक असंरक्षित इलाके में सिंचाई विभाग की ओर से लाल संकेत जारी कर दिया गया है.

सिंचाई विभाग से मिली जानकारी के अनुसार गत 24 घंटों के भीतर 50.40 मिमी बारिश दर्ज की गयी है. इसी खतरे को देखते हुए अलर्ट जारी किया गया है. दूसरी ओर बारिश के कारण शहर के निचले इलाकों में भी जलजमाव देखा गया है.

जिले के माहामाया पाड़ा, चुनीलाल रोड, हरिजन बस्ती व बतासा गली भी जलमग्न हो गये हैं. इन इलाकों में कमर तक पानी जम गया है जिसके कारण इलाके के लोगों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है.

इसे भी पढ़ें – Icse_result: झारखंड में 10वीं में 99.72 और 12वीं में 95.39 फीसदी बच्चे हुए पास, 17 हजार स्टूडेंट्स हुए थे शामिल

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close