JharkhandLead NewsRanchi

स्मार्ट सिटी में मंत्री आवास का निर्माण कार्य शुरू, राज्य गठन के बाद पहली बार बन रहा है मंत्रियों का बंगला

  • मॉस एन वायड की डिजायन पर केएमवी ने शुरू किया निर्माण कार्य
  • वास्तु एवं पर्यावरण का ध्यान रख 9 एकड़ में मंत्रियों के लिए बन रहे हैं 11 बंगले

Ranchi : राज्य बनने के बाद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की सरकार में पहली बार मंत्रियों के लिए बंगला बन रहा है. देश की प्रतिष्ठित कंपनी केएमवी ने स्मार्ट सिटी परिक्षेत्र में बंगले का निर्माण कार्य आरंभ कर दिया है. दिल्ली की कंपनी मॉस एन वायड ने मंत्री बंगलों की डिजायन तैयार की है. पर्यावरण, वास्तु एवं हरियाली को पूरा ध्यान में रखते हुए बंगलों का निर्माण कार्य कराया जा रहा है. बंगलों का निर्माण कार्य केएमवी ने धार्मिक अनुष्ठान के साथ शुरू किया है. पीसीसी कार्य भी शुरू हो गया है.

इसे भी पढ़ें :  Ombudsman App के उपयोग से मनरेगा शिकायतों का होगा निष्पादन, मनरेगा आयुक्त ने ली कार्यों की जानकारी

Catalyst IAS
ram janam hospital

9 एकड़ भूमि में पूरा परिसर

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

69.90 करोड़ की लागत से रांची स्मार्ट सिटी में 9 एकड़ भूमि पर 11 मंत्री आवास बनेंगे. आगामी 24 महीने में मंत्री आवास बन जाने की पूरी संभावना है. राज्य गठन के बाद पहली बार मंत्रियों के लिए निर्धारित बंगला बन रहा है. अब तक राज्य के कैबिनेट मंत्री पूल के निर्धारित पुराने बंगलों में रहते आ रहे हैं. मंत्रियों के लिए बननेवाले बंगले अत्याधुनिक सुविधाओं से परिपूर्ण होंगे.

इसे भी पढ़ें :  लोहरदगा : नक्सल विरोधी अभियान में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद

प्रत्येक बंगले के सामने का हिस्सा पूरब दिशा में होगा तथा बंगले का शेष हिस्सा पूर्वोत्तर दिशा में होगा. स्नानागार, शौचालय, किचन, आवासीय कार्यालय, प्रतीक्षालय एवं शयन कक्ष का निर्माण पूरी तरह वास्तु को ध्यान में रख कर किया जा रहा है. बंगले डुपलेक्स आकार में दो तल के बनाये जा रहे हैं. भूतल पर दो शयन कक्ष, प्रतीक्षालय, बैठक कक्ष, दो शौचालय, पैंट्री कक्ष, डायनिंग हॉल का निर्माण किया जायेगा. प्रत्येक बंगलों में बालकनी युक्त पांच शयन कक्ष बनेंगे. प्रथम तल पर मास्टर बेडरूम सहित कुल तीन बेडरूम बनाये जायेंगे.

मंत्री बंगला परिसर में क्लब हाउस, स्वीमिंग पूल, जिम, ओपेन जिम चिल्ड्रेन प्ले जोन, लाउंज एवं वॉलीबाल एवं बैडमिंटन कोर्ट की भी सुविधा रहेगी. मंत्री बंगलों में सुरक्षा गार्ड हाउस भी बनाया जायेगा. पूरा परिसर हरियाली से युक्त रहेगा. लैंड स्केपिंग करा कर उम्दा किस्म के घास लगाये जायेंगे. छायादार एवं फलदार वृक्ष से पूरा परिसर आच्छादित रहेगा. परिसर में फुटपाथ के साथ साइक्लिंग के लिए पाथ वे बनेगा. योग पार्क के निर्माण पर विशेष ध्यान दिया गया है.

सचिव नगर विकास एवं आवास विभाग के सचिव विनय कुमार चौबे ने कहा कि अब तक राज्य में मंत्रियों के लिए बंगलों का निर्माण नहीं हुआ था. मंत्री पुराने बंगलों में रह रहे हैं. वर्तमान सरकार ने पहली बार मंत्रियों के लिए बंगलों के निर्माण के लिए पहल शुरू की. सरकार की इच्छा शक्ति का परिणाम सामने है, बंगलों का निर्माण स्मार्ट सिटी में शुरू हो गया.

इसे भी पढ़ें : झारखंड टेक्निकल यूनिवर्सिटी को मिला है अधिकार, फिर भी झारखंड कंबाइंड के भरोसे ले रहा एडमिशन

Related Articles

Back to top button