न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

धनबाद नगर निगम का कारनामा : 42 हजार शौचालयाें में छह हजार का पता नहीं

शौचालय निर्माण में 7 करोड़ रुपए का घोटाला, दस्तावेज भी गायब

1,395

Dhanbad : स्वच्छ भारत अभियान के तहत कोयलांचल धनबाद में 42 हजार शौचालय का निर्माण किया गया है. लेकिन 6 हजार शौचालय को लापतागंज के हवाले कर दिया गया. इतना ही नहीं इसके सारे सरकारी दस्तावेजों को भी गायब कर दिया गया है, ये सब तत्कालीन सहायक आयुक्त कृष्ण कुमार के निगरानी में हुआ.

कंप्यूटर में रखे डाटा को भी किया गया डिलीट

यह पूरा मामला धनबाद नगर निगम क्षेत्र का है. दरअसल निगम की तरफ से धनबाद कोयलांचल को ओडीएफ घोषित करने के लिए धनबाद नगर निगम में 42 हजार शौचालय का निर्माण कराया गया था. लेकिन बाद में जब इसके रिकॉर्ड खोजे गए तो मात्र 36 हजार शौचालय का रिकॉर्ड ही कार्यालय में मिला. 6 हजार शौचालय का रिकॉर्ड का कोई पता नहीं था. इतना ही नहीं भ्रष्टचारियों ने इस घोटाले को छिपाने के लिए कंप्यूटर में रखे इससे संबंधित डाटा को भी डिलीट करवा दिया, ताकि आगे की जांच होने पर इससे साफ-साफ बचा जा सके. शौचालय निर्माण में 7 करोड़ रुपए का घोटाले का आकलन लगाया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव से पहले कई बीजेपी दिग्गजों की गिरिडीह लोकसभा सीट पर है नजर !

पैसों की बंदरबांट रेलवे और सरकारी जमीनों पर

वहीं ये पूरा कारनामा तत्कालीन सहायक उपनगर आयुक्त कृष्ण कुमार के हाथों के नीचे हुआ. जो फिलहाल धनबाद समाहरणालय में कार्यपालक पदाधिकारी के पद पर अपना योगदान दे रहे हैं. पैसों की बंदरबांट करने लिए  रेलवे और सरकारी जमीनों का उपयोग  किया गया. जिसके बाद शौचालय को ध्वस्त कर दिया गया. खुले में शौच मुक्त करने को लेकर विभाग की ओर से बिना जांच किये ही सरकारी जमीन और रेलवे की जमीनाें पर शौचालय का निर्माण कर दिया गया. जिसके बाद में रेलवे और संबंधित विभाग की ओर से बुलडोजर चला ध्वस्त करवा दिया गया. यहां भी विभाग की लापरवाही की वजह से सरकार के लाखों रुपए बर्बाद कर दिए गए.

इसे भी पढ़ें- अज्ञात बीमारी से तिल-तिल कर मर रहा मासूम, कमर के नीचे का पूरा हिस्सा हुआ बेजान

वाहवाही में हो गयी घोटाले की रूप रेखा तैयार

palamu_12

धनबाद नगर निगम क्षेत्र में शौचालय निर्माण कार्य की गति काफी धीमी देखी जा रही थी. वहीं धनबाद का पड़ोसी जिला बोकारो ओडीएफ घोषित हो चुका था. जिसका सेहरा उप नगर आयुक्त कृष्ण कुमार को ही बांधा गया था. जिसके बाद धनबाद को भी जल्द से जल्द खुले में शौच मुक्त करने को लेकर निगम की ओर से दिशा निर्देश जारी कर दिया गया. वहीं बोकारो में पदस्थापित कृष्ण कुमार को धनबाद बुला इसकी जिम्मेदारी दी गई थी. जिसके बाद धनबाद खुले में शौच से उत्पन्न गंदगी से तो मुक्त हो गया. लेकिन भ्र्ष्टाचार की गंदगी के छीटे इस पर भी पड़ गए.

इसे भी पढ़ें- प्रदीप यादव ने सांसद रामटहल चौधरी को बताया पागल, कहा- उनके बारे में कोई पागल आदमी ही बोलेगा

क्या कहते है धनबाद के अपर नगर आयुक्त

शौचालय निर्माण में 6 हजार शौचालय का रिकार्ड नही मिलने व इसके डाटा से छेड़छाड़ पर धनबाद के अपर नगर आयुक्त महेश संथालिया ने कहा कि विभाग को इसकी लिखित जानकारी दे दी गई है. अब इसपे विभाग को ही आदेश करना है. जैसा दिशा निर्देश विभाग की ओर से हमे मिलेगा उस हिसाब से इसपर आगे की कार्रवाई करेंगे.

इसे भी पढ़ें- आखिर कब होगा 14 हजार करोड़ का एक्शन प्लान, अब तक बिजली की मांग नहीं हो पायी है पूरी

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: