न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भाजपा के चुनावी संकल्प पर कांग्रेस का निशाना, कहा- युवाओं और बेरोजगारी पर कोई ध्यान नहीं 

230

Ranchi: भाजपा के चुनाव घोषणा पत्र पर प्रतिक्रिया देते हुए झारखंड प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार ने कहा है कि 2014 में भाजपा ने जो संकल्पना जारी की थी, उसे ही अबतक पूरा नहीं किया गया है. ऐसे में मोदी सरकार के संकल्प “एक सशक्त राष्ट्र” का निर्माण कभी भी पूरा नहीं हो पाएगा. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के नये संकल्प में युवाओं के लिए कोई विशेष उपाय नहीं किया गया है. वहीं इन युवाओं के समक्ष सबसे बड़ी समस्या बेरोजगारी है, लेकिन उसे दूर करने पर भी कोई जोर संकल्प में नहीं है.

इसे भी पढ़ें – एयर स्ट्राइक का चुनावी फायदा नहीं,  बहुमत से दूर रहेगी मोदी सरकार, राजग को मात्र 267 सीटें :सर्वे

किसानों के साथ किया जा रहा धोखा

डॉ. अजय कुमार ने कहा कि मोदी सरकार ने 2014 में किसानों को उनकी फसल की लागत का 1.5 गुणा मूल्य देने का वायदा था. इसके लिए केन्द्र सरकार ने सर्वोच्च न्यायालय में हलफनामा भी दिया था. लेकिन फिर भी सरकार अपने वायदे से मुकर गई. एक बार फिर जुमलेबाजी वाली सरकार ने अपने नये घोषणा पत्र में किसानों की आय को 2022 तक दोगुना करने की बात कही है, जो कि किसानों को धोखा देना है. इसे पूरा करने के लिए सरकार ने अशोक दलवई कमेटी का गठन किया था. कमिटी ने सुझाव दिया कि कृषि विकास दर 10.4 प्रतिशत होना जरूरी है. तभी किसानों की आय दोगुनी की जा सकेगी. हकीकत यह है कि पिछले पांच वर्षों के मोदी सरकार में कृषि विकास दर 3.7 या 3.8 प्रतिशत ही है.

इसे भी पढ़ें – चुनावी तपिश के बीच मौसम बदल रहा, आंधी-पानी के साथ वज्रपात की भी आशंका

कांग्रेस का लक्ष्य गरीबी दूर करने पर

भारत को 2030-31 तक दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने के बयान को याद दिलाते हुए प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि मोदी सरकार के पांच वर्षों के कार्यकाल को देख ऐसा नहीं लगता है कि उनकी सरकार इस लक्ष्य के लिए थोड़ी सी भी गंभीर है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी का लक्ष्य पूरी तरह से गरीबों पर है. पार्टी के चुनावी घोषणा पत्र में भी कहा है कि अगर केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनती है तो Per Captia Income बढ़ाने के साथ 72,000 की न्याय योजना के तहत देश के 20 प्रतिशत लोगों को basic income दिया जाएगा. इससे उन्हें गरीबी रेखा से ऊपर उठाया जाएगा. मोदी सरकार ने महिला सशक्तीकरण की दिशा में कोई विशेष कदम नहीं उठाया. लेकिन उनकी सरकार बनते ही सबसे पहले के सत्र में महिलाओं के 33 प्रतिशत आरक्षण का प्रस्ताव लाया जाएगा.

इसे भी पढ़ें – सबसे ज्यादा आदिवासियों का शोषण किसी ने किया तो वो है झामुमो : रघुवर दास

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: