न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भूमि अधिग्रहण मुद्दे पर रघुवर सरकार को घेरेगी कांग्रेस : आलमगीर आलम

पाकुड़ में विस्थापन, प्लस टू स्कूलों में बदलाव भी रहेंगे बड़े मुद्दे

572

Ranchi: झारखंड विधानसभा का मॉनसून सत्र में विपक्ष के पास ज्वलंत मुद्दों की भरमार है, जवाब सत्तापक्ष को देना है. ये बातें कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम ने कही. उन्होने कहा कि रघुवर सरकार को घेरने के लिए कांग्रेस भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल को सबसे ज्यादा प्राथमिकता देगी.

‘मिशनरी और धर्म परिवर्तन करने वालों को आरक्षण पर जल्द रुख साफ करेगी कांग्रेस’

हालांकि मिशनरीज ऑफ चैरिटी और धर्म परिवर्तन करने वालों का आरक्षण समाप्त करने पर कांग्रेस ने अपना रुख साफ नहीं किया है. आलमगीर आलम ने साफ किया है कि इसे लेकर पार्टी विधायक और नेताओं के बीच अब तक कोई बैठक नहीं हुई है. जल्द ही बैठक कर इस पर कोई निर्णय लिया जाएगा.

इसे भी पढ़ें-मुख्यमंत्री का गुस्सा और कंफ्यूज सिस्टम

‘पाकुड़ में विस्थापन और प्लस टू स्कूलों में जनजातीय भाषाओं को समाप्त करना भी बड़ा मुद्दा’

कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम ने साफ किया कि वे सबसे ज्यादा भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल को प्रमुखता देंगे. इसके अलावा पाकुड़ में विस्थापित हुए लोगों की स्थिति और प्लस टू स्कूलों में जनजातीय भाषाओं की पढ़ाई समाप्त करना भी राज्य के बड़े मुद्दे हैं. पार्टी इन मुद्दों को भी उठाएगी.

संशोधन बिल से जनता को ठगने का किया है काम

कांग्रेसी नेता आलमगीर आलम ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि जब से यह सरकार सत्ता में आयी है, तब से जनता सरकार के क्रियाकलापों से पूरी तरह हतोत्साहित है. गरीबों के हितों को नजरअंदाज कर सरकार ने पहले भी सीएटी-एसपीटी एक्ट में संशोधन का प्रयास किया. हालांकि विपक्षी दलों के हंगामे के बाद राष्ट्रपति को इस बिल को वापस लेना पड़ा. अब सरकार 2013 के भूमि अधिग्रहण बिल को संशोधित कर जनता को ठगने का काम कर रही है. कांग्रेस पार्टी इस बिल का पूरजोर तरीके से विरोध करती है. इस मुद्दें पर जनता पर पड़ रहे प्रभावों को देखते हुए पार्टी आगामी सत्र में सरकार को घेरने की कोशिश करेगी.

silk_park

इसे भी पढ़ें- पूर्व विधायक विनोद सिंह भी हैं तैयार, क्या जयंत सिन्हा करेंगे मॉब लिचिंग पर बहस ?

मुख्य मुद्दों पर अभी तक कोई बैठक नहीं : आलमगीर आलम

न्यूज विंग संवाददाता ने जब कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम से पूछा कि हाल के दिनों में जिस तरह से मिशनरी ऑफ चैरिटी या धर्म परिवर्तन करने वालों के आरक्षण समाप्त करने के मुद्दें पर पार्टी का क्या स्टैंड है ? इसपर उनका कहना था कि संविधान के अनुच्छेद 25 को देखने के बाद यह मालूम चल जाएगा कि क्या सही है और क्या गलत. हालांकि इस मुद्दे को मानसून सत्र में पार्टी द्वारा उठाने के सवाल पर उनका कहना था कि इसे लेकर पार्टी विधायक नेताओं का अबतक कोई बैठक नहीं की गयी है. बैठक होने के पश्चात ही इसपर कोई निर्णय लिया जाएगा.

इसे भी पढ़ें-हंगामेदार रहेगा झारखंड विधानसभा का मॉनसून सत्र, सरकार को घेरेगा विपक्ष

सत्ता में आने के बाद वादों को भूल गयी सरकार

प्रेस वार्ता में पार्टी विधायक दल के नेता आलमगीर आलम ने सरकार पर सत्ता में आने के बाद अपने वादों को भूलने का आरोप लगाया. उन्होने कहा कि सरकार जनता को बेघर करने का काम कर रही है. कुछ दिन पहले ही पाकुड़ प्रशासन ने बेलपोखर में कई लोगों के घरों को उजाड़ दिया. सरकार को चाहिए था कि बरसात के मौसम को देखते हुए पहले कोई वैकल्पिक व्यवस्था करती. इसी तरह सरकार ने प्लस टू स्तर पर जनजातीय भाषाओं की पढ़ाई समाप्त करने की घोषणा की है. इससे हजारों छात्रों के भविष्य पर असर पड़ेगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: