JharkhandRanchi

नियोजन नीति और पिछड़ों को 27 प्रतिशत आरक्षण का प्रस्ताव सदन में रखेगी कांग्रेस

कांग्रेस विधायक दल की बैठक में महत्वपूर्ण चार बिंदुओं पर हुई चर्चा

Ranchi: प्रदेश कांग्रेस विधायक दल की बैठक में आज प्रदेश प्रभारी आरपीएन सिंह की अध्यक्षता में हुई. बैठक में विधायकों ने कहा कि सरकार द्वारा मैनिफेस्टो में दिए गए वादों को पूरा करने पर बात करेगी. सत्र में पिछड़ों को 27 प्रतिशत आरक्षण और पिछली सरकार द्वारा लैंड बैंक के नाम पर गरीबों की जमीन ली गई थी उसे गरीबों को वापस कराने के मुद्दे को प्रमुखता से रखेगी.

बता दें कि 27 प्रतिशत आरक्षण लेकर राज्य में लगातार आवाजें उठती रही है. बैठक में कहा गया कि इस विधान सभा सत्र में कांग्रेस चार महत्वपूर्ण मुद्दों पर सरकार से कार्य पूरा कराने का प्रयास करेगी.

इसे भी पढ़ें :1900 करोड़ का MOU करनेवाले आधुनिक पावर के अग्रवाल बंधु झारखंड को लगा चुके हैं 500 करोड़ का चूना

बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत पर आरपीएन सिंह ने कहा कि सरकार पिछड़ों को 27 प्रतिशत आरक्षण दिलाने की प्रति संकल्पित है. इसे जल्द लागू कराने का प्रयास की जाएगी. नियोजन नीति पर नए सिरे से बात होगी, ताकि त्रुटियों को सुधारा जा सके.

सिंह ने कहा कि पिछली सरकार द्वारा लैंड बैंक के नाम पर गरीबों की जमीन ली गई थी उसे गरीबों को वापस कराई जाएगी. चुनाव के समय बनी मैनिफेस्टो को पार्टी एकजुटता के साथ 100 फीसदी लागू कराएगी.

उन्होंने कहा कि सरकार ने जो संकल्प लिया है उसे पांच साल के कार्यकाल के दौरान पूरा करने का काम करेगी. पिछली बार विधायक बन्धु तिर्की और राजेश कच्छप ने विस्थापन आयोग गठन करने का मामला उठाया था, जिसे पूरा करने को लेकर सरकार से बात की जाएगी. बैठक में सारे विधायक मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें :अगले 6 सालों में तीसरी क्लास तक के बच्चों को निपुण भारत योजना के जरिये गणित में बनाया जायेगा काबिल

बिजली व्यवस्था पर भी उठे सवाल

विधायक दल की बैठक में विधायकों ने बिजली व्यवस्था को लेकर के भी सवाल उठाए. विधायकों ने कहा कि तमाम प्रयासों के बाद भी सूबे में बिजली व्यवस्था ठीक नहीं है. बिजली व्यवस्था में तत्काल सुधार करने की बात कही है.

वर्ष के अंदर युवाओं को रोजगार देने की पहल हो

सिंह ने कहा कि राज्य में बेरोजगारों को नौकरी दिलाने की प्रक्रिया तेज करने की आवश्यकता है. इस वर्ष के अंत तक नवजवानों की नौकरी मिल जाये इसपर सरकार को गम्भीरता से विचार करना चाहिए.

इसे भी पढ़ें :मानसून सत्र में सदन में हेमंत सरकार को घेरेगी भाजपा, रणनीति बनाने को जुटी पार्टी

Related Articles

Back to top button