JharkhandLead NewsRanchi

झूठे वादे देने वाले कांग्रेसी नेता कहते है मुख्यालय ना आएं, पार्टी की बदनामी होती है- पंचायत सचिव अभ्यर्थी

मांग नहीं पूरा होने पर कांग्रेस मुख्यालय पहुंचे अभ्यर्थी

Ranchi : कांग्रेस नेताओं के मिले आश्वासन के बाद मांगों को पूरा होते नही देख पंचायत सचिव अभ्यर्थी बुधवार को राजधानी के पार्टी मुख्यालय भवन पहुंच गये. इस दौरान अभ्यर्थियों ने मुख्यालय के छत पर पहुंच कर नेताओं पर झूठे वादे व जुमलेबाजी करने का आरोप लगाया.

अभ्यर्थियों का कहना है कि पंचायत सचिव परीक्षा की तमाम प्रक्रिया होने के बाद भी नियुक्ति प्रक्रिया पूरा किया जा रहा है. जब हमने सरकार तक अपनी आवाज पहुंचाने के लिए बीते साल अक्टूबर माह में अनशन पर थे, तो कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल ने झूठे वादों के साथ हमारा अनशन तोड़वाया था.

लेकिन अपने वादों को पूरा नहीं कर कांग्रेस नेता कहते है कि वे पार्टी मुख्यालय नहीं आए. इससे पार्टी की बदनाम होती है. इससे नाराज हम एक बार फिर कांग्रेस मुख्यालय में धरने पर हैं. इस बात हमारी मांग नहीं मानी गयी, तो हम छत से खुद कर आत्महत्या कर लेंगे.

इसे भी पढ़ें- लापता युवक का कुएं से शव बरामद, पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया RIMS

कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल नेता मंडल ने किया था वादा

बता दें कि 24 अक्टूबर को मोरहाबादी में अपनी मांगों को लेकर अनशन पर बैठे पंचायत सचिव अभ्यर्थियों को कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल के आश्वासन पर समाप्त किया था. पिछले 12 दिनों यानी 12 अक्टूबर से पंचायत सचिव अभ्यर्थी अपने नियुक्ति की मांग को लेकर आमरण अनशन पर बैठे थे.

कांग्रेस विधायक ममता देवी ने जूस पीला कर सभी अभ्यर्थियों का अनशन समाप्त करवाया और उन्हें यह आश्वासन दिया था कि अभ्यर्थियों को वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव,आलमगीर आलम से मुलाकात करवाया जाएगा और उनकी मांगों को बहुत जल्द पूरा कर दिया जाएगा. मांग पूरा नहीं होने पर 16 नवंबर को मुख्यालय में धरने पर पहुंचे थे.

इसे भी पढ़ें- झारखंड से महाराष्ट्र पहुंचकर खोली जूस की दुकान, लेकिन नजर थी ज्वैलरी शॉप पर, कर डाला बड़ा कांड

क्या कहा अभ्यर्थी ने

पंचायत सचिव अभ्यर्थी गुलाम हुसैन ने कहा कि पिछले वर्ष 12 अक्टूबर माह से उनका आंदोलन चल रहा है. लेकिन सरकार हमारी बातों को सुन रही है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल ने अभ्यर्थियों द्वारा किये जा रहे अनशन को तोड़ा था.

कांग्रेस नेताओं का मानना था कि बहाली की प्रक्रिया जल्द पूरी करायी जाएगी. इसके लिए 15 नवंबर का डेडलाइन तय किया गया था. नाराज अभ्यर्थियों ने 15 नवंबर को ही कांग्रेस मुख्यालय में पहुंचे बेरोजगार दिवस मनाये, लेकिन इसका भी कोई असर नेताओं पर नहीं पड़ा. कांग्रेस के नेता फोन पर ही आश्वासन देते है और कहते है कि आपलोगों पार्टी मुख्यालय नहीं आये.

अभ्यर्थियों के आने से कांग्रेस पार्टी बदनाम होती है. गुलाम हुसैन ने कहा कि आज हम आर-पार की लड़ाई की तैयारी में है. अगर हमारी मांगें नहीं मानी जाती है, तो हम किसी भी हद तक जा सकते है. इस दौरान अभ्यर्थियों ने कांग्रेस मुख्यालय से आत्मदाह की भी धमकी दे दी.

क्या कहा कांग्रेसी प्रवक्ता ने

कांग्रेस प्रवक्ता राकेश सिन्हा ने कहा है कि गठबंधन सरकार पंचायत सचिव अभ्यर्थियों के मांगों को लेकर काफी संवदेनशील है. पूर्व की भाजपा सरकार चाहती तो पूरी प्रक्रिया पूरी होने के बाद नियुक्ति प्रक्रिया को पूरा करती, लेकिन ऐसा नहीं किया गया. अभ्यर्थी परेशान नहीं हो, जल्द ही नियुक्ति प्रक्रिया पूरी होगी.

इसे भी पढ़ें- दिल्ली हिंसा के पीछे खालिस्तान समर्थकों से लेकर गैंगस्टर तक शामिल ?

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: