Crime NewsGiridihJharkhand

राम मंदिर निर्माण के लिए ली जा रही सहयोग राशि को ‘भीख’ बताकर फंसे गिरिडीह के कांग्रेस नेता

विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने थाना को आवेदन देकर की कार्रवाई की मांग

Giridih : अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए हिंदू संगठनों द्वारा लोगों से ली जा रही सहयोग राशि को गिरिडीह के कांग्रेस नेता सतीश केडिया ने कथित रूप से ‘भीख मांगना’ बता दिया है. इसे लेकर विश्व हिंदू परिषद के नेता राजेश राम, कुंदन कुमार, राकेश आर्या, रवींद्र स्वर्णकार समेत अन्य कार्यकर्ताओं ने नगर थाना को आवेदन देकर कांग्रेस नेता पर कार्रवाई की मांग की है.

सनातन धर्म का अपमान : विहिप

आरोप है कि कांग्रेस नेता सतीश केडिया ने राम मंदिर निर्माण के लिए सहयोग राशि मांगे जाने को ‘भीख मांगना’ बताते हुए अपने फेसबुक वॉल पर एक पोस्ट किया है. शुक्रवार को कांग्रेस नेता के फेसबुक पोस्ट पर नजर पड़ने के बाद विहिप के कार्यकर्ताओं ने इसे सनातन धर्म का अपमान बताते हुए कहा कि दान लेना और दान देना सनातन धर्म के पुरातन महत्व में शामिल रहा है.

इसे भी पढ़ें :झारखंड में औद्योगिक विकास के प्रति सरकार गंभीर, इलेक्ट्रो स्टील वेदांता और अमलगम स्टील के साथ जल्द होगा एमओयू

विहिप के नेताओं ने आरोप लगाते हुए कहा कि 21 जनवरी को ही कांग्रेस नेता सतीश केडिया ने अपने फेसबुक वॉल पर यह पोस्ट किया था. कांग्रेस नेता खुद भी हिंदू हैं, लेकिन राम मंदिर निर्माण के लिए सहयोग राशि की मांग को भीख बताकर कांग्रेस नेता ने खुद को एक ओछी मानसिकता वाला नेता साबित किया है. इससे साबित होता है कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण राहुल गांधी की तरह उनकी पार्टी के नेताओं की भी आंखों में चुभ रहा है.

विहिप के नेताओं ने यह भी आरोप लगाया कि सहयोग राशि की मांग पूरे विश्व में की जा रही है. मंदिर निर्माण के लिए एक-एक घर से सहयोग राशि दी जा रही है. लेकिन, कथित सेकुलर दल के नेताओं को यह नजर नहीं आ रहा है.

केडिया ने विवादित पोस्ट डिलीट किया, माफी मांगी

इधर, कांग्रेस नेता सतीश केडिया के जिस फेसबुक पोस्ट पर विवाद खड़ा हुआ है और विश्व हिंदू परिषद के नेताओं ने पुलिस से उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की है, उस पोस्ट को सतीश केडिया ने फेसबुक से डिलीट कर दिया है. वहीं, शुक्रवार को ही उन्होंने एक और पोस्ट किया, जिसमें उन्होंने लिखा है, “मेरी किसी पोस्ट से किसी भाई को दुख पहुंचा हो, तो मैं क्षमा प्रार्थी हूं. जय सियाराम.”

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: