न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पारा शिक्षकों और मनरेगा कर्मियों को मिले आश्वासन को कांग्रेस ने बताया चुनावी लॉलीपॉप

सरकारी आश्वासन पर पूर्व डिप्टी मेयर अजय नाथ शाहदेव ने दी प्रतिक्रिया

153
  • शिक्षा से कोई मतलब नहीं, चुनाव को लेकर चितिंत है मुख्यमंत्री : शाहदेव
  • मांगों को लेकर दो माह से आंदोलनरत थे मनरेगा कर्मी और पारा शिक्षक

Ranchi : पारा शिक्षक और मनेरगाकर्मियों को मिले सरकारी आश्वासन को कांग्रेस नेता व पूर्व डिप्टी मेयर लाल अजय नाथ शाहदेव ने केवल एक चुनावी लॉलीपाप बताया है. मिले आश्वासन पर मुख्यमंत्री रघुवर दास पर हमला बोलते हुए कहा कि बीते चार साल के अपने कार्यकाल में उन्होंने इनके प्रति कभी गंभीरता नहीं दिखायी. यहां तक कि इनके आंदोलन को कुचलने का हर संभव प्रयास किया. अब चुनाव में 100 दिन से भी कम समय बचा है, तो उसे देख सरकार ने यह लॉलीपॉप देने का काम किया है. रघुवर राज्य में जब भाजपा के मंत्री व विधायक असंतुष्ट है, तो राज्य की जनता कैसे खुश रहेगी.

सरकार के मन में है खोट, वरना नहीं रहता पढ़ाई ठप

कांग्रेसी नेता ने कहा कि राज्य स्थापना दिवस पर आंदोलनरत शिक्षकों की पिटाई कर सरकार ने निरंकुशता का परिचय दिया था. अब चुनावी माहौल को देखते हुए सरकार आंदोलनकारियों को ठग रही है. दरअसल अभी भी सरकार के मन में खोट है. सरकार चाहती ही नहीं कि राज्य के बच्चे पढ़े और आगे बढ़े. अगर ऐसा होता तो रघुवर सरकार के तानाशाही रवैए के कारण बच्चों के दो महीनों से पढ़ाई ठप्प नहीं रहता.

मिशनरी संस्थाओं को बदनाम करती रही है सरकार

Related Posts

राज्य के सभी 36 हजार सरकारी स्कूलों में बनाये जायेंगे सोक पिट, गर्मियों में काम आयेगा पानी

कल बनायें, जल बचायें अभियान : स्कूल प्रबंधन समिति, स्थानीय पंचायत और जनप्रतिनिधियों के आपसी सामंजस्य से होगा निर्माण

SMILE

अल्पसंख्यक मिशनरी संस्थाओं का हो रहे प्रताड़ना पर अजय नाथ ने कहा कि अपने शासनकाल में भाजपा ने ऐसी कल्याणकारी संस्थाओं को बदनाम किया है. हकीकत है कि ये संस्थाएं शिक्षा, स्वास्थ्य और मानव सेवा में दशकों से कार्य कर रही हैं. अनाथ बच्चों के लिए काम करने वाली निर्मल हृदय स्वयंसेवी मिशनरी विश्वस्तरीय है. लेकिन सरकार ने ऐसी संस्थाओं को भी बदनाम किया. जो कि किसी तरीके से सही नहीं है. शाहदेव ने कहा कि आदिवासियों के रक्षा-कवच कहे जाने वाली सीएनटी और एसपीटी एक्ट में बेवजह संशोधन कर भाजपा उनके जमीनों को अडानी जैसे स्वार्थी उद्योगपतियों को देने में लिप्त है.

मंत्री और विधायक ही असंतुष्ट, तो जनता कैसे रहेगी खुश

शाहदेव ने कहा कि जिस सरकार से स्वयं उनके मंत्री और विधायक असंतुष्ट हैं, उनसे राज्य की जनता कैसे खुश रह सकती है?.  भाजपा शासन में कई लोग भूख से मर रहे हैं. इन मौतों के बीच सरकार ने अपने विज्ञापन में गरीब जनता के 350 करोड़ रुपए तक बर्बाद कर दिया. स्किल इंडिया के नाम पर केवल 4-4 हजार रुपये की नौकरी देकर सरकार बेरोजगार युवाओं को दूसरे राज्य में भेज रही है. भाजपा की इन नीतियों को जनता पहचान चूकी है. आगामी चुनाव में जनता उनके करनी का जवाब देगी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: