JharkhandJharkhand PoliticsLead NewsRanchi

नहीं थम रही कांग्रेस में किचकिच, अब विधायक इरफ़ान अंसारी ने कांग्रेस कोटे के मंत्रियों के परफॉर्मेंस पर उठाये सवाल

Ranchi : झारखंड कांग्रेस में व्याप्त किचकिच थमने का नाम नहीं ले रहा है. अभी चार दिन पहले कांग्रेस विधायकों ने सरकार के निर्णयों का इस कदर विरोध किया कि मामले को शांत करने के लिए मुख्यमंत्री को दरबार लगाना पड़ा. यह मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि कांग्रेस विधायक इरफ़ान अंसारी ने अपनी ही पार्टी के मंत्रियों के परफॉर्मेंस पर सवाल खड़ा कर दिया है और कहा है कि मंत्रिमंडल में नये लोगों को मौका मिलना चाहिये. जिन लोगों ने अवसर मिलने के बाद काम नहीं किया है, उनकी तत्काल मंत्रिमंडल से छुट्टी कर देनी चाहिये. उन्होंने कहा कि प्रदेश कांग्रेस प्रभारी आरपीएन सिंह और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजेश ठाकुर स्वयं इसका आकलन कर निर्णय लें. इरफ़ान यही शांत नहीं हुए उन्होंने कहा कि 29 दिसंबर के बाद वह इस मामले को लेकर दिल्ली जायेंगे. उनके साथ कांग्रेस के कई विधायकों का समर्थन है.

इसे भी पढ़ें : रांची में 100 एकड़ से अधिक गैरमजरुआ प्लाट मालिकों के रैयतीकरण का इंतजार अब होगा खत्म

काम नहीं होने का सीधा असर पार्टी पर

ram janam hospital
Catalyst IAS

विधायक इरफ़ान अंसारी ने कहा कि कांग्रेस कोटे के मंत्रियों के विभाग में काम नहीं होने से इसका सीधा असर पार्टी पर देखने को मिल रहा है. कांग्रेस के कार्यक्रम और सभा से लोग दूरी बना रहे हैं. जनता के बीच पार्टी और सरकार के प्रति विश्वास लगातार कम होता जा रहा है. उन्होंने कांग्रेस आलाकमान से पार्टी के चार मंत्रियों के विभागवार समीक्षा करने का अनुरोध किया है.

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

29 दिसंबर के बाद कांग्रेस विधायकों के साथ करेंगे दिल्ली कूच

इरफान अंसारी ने 29 दिसंबर के बाद कांग्रेस विधायकों के साथ दिल्ली कूच करने का एलान कर दिया है. राज्य में जनता से किये गए वायदों के अनुरूप काम नहीं होने से कांग्रेस पार्टी और विधायकों को नुकसान हो रहा है. कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर को भी इसकी जानकारी दे दी गई है. कहा कि दिल्ली दौरा प्रदेश अध्यक्ष के नेतृत्व में ही जाने की तैयारी की जा रही है. इरफान अंसारी ने कहा कि अभी कांग्रेस और राज्य सरकार के पास संभालने का मौका है, अगर अभी नहीं संभाले तो जनता माफ नहीं करेगी.

कई और विधायकों के साथ होने का किया दावा

उन्होंने दावा किया कि उनके साथ कई और विधायक हैं जो चाहते हैं कि मंत्रियों के कामकाज का आकलन हो और इन चारों मंत्रियों के स्थान पर नए लोगों को मंत्रिमंडल में शामिल किया जाए. बकौल इरफान, इन मंत्रियों को काफी मौका मिल चुका है. अब समय आ गया है कि नए लोगों को भी काम करने का मौका दिया जाए. यह संगठन के व्यापक हित में होगा कि अन्य विधायकों को भी अपनी उपयोगिता साबित करने का अवसर मिलना चाहिए. कहा कि कांग्रेस कोटे के मंत्रियों का कामकाज और उपलब्धि ठीक नहीं है। भले ही सरकार में बैठे लोगों को ऐसा नहीं लग रहा है, लेकिन जनता के बीच जाना मुश्किल हो रहा है. यही स्थिति रही तो अगले चुनाव में काफी दिक्कतें पेश होगी. ऐसे में नेतृत्व को चाहिए कि अल्पसंख्यक, आदिवासी, पिछड़े समुदाय के साथ-साथ महिला विधायक को मौजूदा मंत्रियों के स्थान पर मौका दें.

फिलहाल दौरे पर हैं प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर

कांग्रेस कोटे के मंत्रियों को हटाने की उठी मांग के बीच प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजेश ठाकुर फिलहाल कोल्हान के दौरे पर हैं. वे केंद्र सरकार के खिलाफ जनजागरण अभियान के तहत कार्यक्रम कर रहे हैं. मंगलवार को उन्होंने चाईबासा, सरायकेला, घाटशिला, मुसाबनी आदि इलाकों का दौरा किया. उनके राजधानी वापस लौटने पर मंत्रियों को हटाने की मुहिम तेज हो सकती है.

विधायक दल की बैठक में भी लाल थे विधायक

मालूम हो कि शुक्रवार को संसदीय कार्य मंत्री आलमगीर आलम के आवास पर कांग्रेस विधायकों की बैठक हुई थी. उस बैठक में भी सरकार के कई निर्णयों का विरोध कांग्रेस विधायकों ने किया था. खासकर नियुक्ति नियमावली में भाषाई विवाद और झारखण्ड कर्मचारी चयन आयोग की परीक्षा में झारखंड से मैट्रिक और इंटर उत्तीर्ण नहीं होने वाले अभ्यर्थियों को स्थानीय का दर्जा नहीं देने का विरोध विधायकों ने किया था. विवाद आगे नहीं बढे इसको लेकर दुसरे ही दिन विधायकों की बैठक मुख्यमंत्री के साथ कराई गयी थी. लेकिन कांग्रेस विधायकों को अभी भी इस मामले पर मुख्यमंत्री के आश्वासन पर भरोसा नहीं है. दबी जुबान में कई विधायक तो अब यह भी कहने लगे हैं कि सरकार में कांग्रेस भले ही शामिल है लेकिन सरकार झामुमो के एजेंडे पर चल रहा है.

इसे भी पढ़ें : देवघर के बालू घाटों से अवैध रूप से बिहार भेजा जा रहा बालू, डीएमओ ने की JSMDC की शिकायत

Related Articles

Back to top button