JharkhandRanchi

कांग्रेस: जिला स्तर के नेता ने प्रदेश अध्यक्ष के खिलाफ पार्टी मुख्यालय में की प्रेस कांफ्रेंस

विज्ञापन

Ranchi: लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद अब कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ अजय कुमार के खिलाफ जिला स्तर के नेताओं ने बागवत शुरू कर दी है. पार्टी मुख्यालय में सोमवार को एक प्रेस कांफ्रेंस आयोजित कर पूर्व महानगर अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह और पूर्व प्रवक्ता राकेश सिन्हा ने चुनाव में हार के लिए डॉ अजय कुमार को जिम्मेवार बताया है. कहा है कि पार्टी कुल 7 सीटों पर चुनाव लड़ी थी. लेकिन पार्टी 1 सीट पर ही चुनाव जीती है. इसके पीछे का कारण प्रदेश अध्यक्ष की नीतियां हैं. उन्होंने कहा कि अध्यक्ष पद पर आने के बाद उन्होंने पुराने कांग्रेसी नेताओं की एक बात भी नहीं सुनी. इतना ही नहीं उनके अध्यक्ष बनने के बाद एक साजिश के तहत प्रदेश कांग्रेस कमेटी तक का गठन नहीं किया. डॉ अजय की इस नीति पर पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं ने नाराजगी भी जाहिर की थी.

इसे भी पढ़ें – कोलैप्स कर सकता है झारखंड का फाइनैंशियल सिस्टम! सिर्फ रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से 37257.7 करोड़ का कर्ज, ब्याज में अब तक चुकाये जा चुके हैं 17558.07 करोड़

नॉनपॉलीटिकल फेस और ननरेसिडेंशियल झारखंडी हैं अजय कुमार: सुरेंद्र सिंह

सुरेंद्र सिंह ने बताया कि अजय कुमार गैर राजनीतिक (नॉनपॉलीटिकल फेस) चेहरा होने के साथ ही झारखंड के अप्रवासी (नॉनरेसिडेंशियल झारखंडी) व्यक्ति हैं. पार्टी की लोकसभा चुनाव में हार की सबसे बड़ी वजह भी यही है. उन्होंने कहा कि झारखंड में 4 सीटों पर कांग्रेस की जीत तय थी, लेकिन सिर्फ एक पर ही जीत हासिल हो पायी. उन्होंने महागठबंधन की समीक्षा की भी बात कही. कहा कि इससे साफ हो पायेगा कि हार के पीछे की वजह क्या है?

advt

इसे भी पढ़ें – कांग्रेस अध्यक्ष पद छोड़ने पर अड़े राहुल गांधी! सीनियर नेताओं से कहा,  ढूंढ़ लीजिए कोई ओर

मौसमी चिड़िया की तरह अध्यक्ष बने अजय कुमार: राकेश सिन्हा

पूर्व प्रवक्ता राकेश सिन्हा ने भी अजय कुमार पर निशाना साधा. कहा कि एनकाउंटर स्पेशलिस्ट क नाम से चर्चित रहे अजय कुमार ने राज्य से पार्टी को ही इनकाउंटर कर दिया है. वे मौसमी चिड़िया की तरह अध्यक्ष बने और यहां से चुग कर पार्टी को ही खत्म कर दिया. उनका मुख्य उद्देश्य सिर्फ अपना चेहरा चमकाना था. पार्टी उम्मीदवारों की रैलियों में तो वे उपस्थित नहीं हुए, लेकिन जहां-जहां कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की रैलियां हुईं, वह मंच पर नजर आये और उसके बाद उन्होंने आराम किया. हालांकि फुर्सत मिलने पर सिर्फ धनबाद और हजारीबाग में ही फोकस किया.

इसे भी पढ़ें – लोकसभा चुनाव में सामने आयी आदिवासी वोटरों की बीजेपी से नाराजगी, पांच आरक्षित सीटों में दो पर हारी, दो पर मुश्किल से मिली जीत

पार्टी प्रवक्ताओं को भी किया कठघरे में खड़ा

राकेश सिन्हा ने अजय कुमार द्वारा चुने गये पार्टी प्रवक्ताओं को भी कटघरे में खड़ा किया. कहा कि उनके द्वारा चुने गये प्रवक्ताओं ने जमीनी स्तर पर काम न कर सिर्फ मुख्यालय में बैठ बयानबाजी की. राकेश सिन्हा ने इसके लिए पार्टी के कंट्रोल रूम सहित कोऑर्डिनेटर की कार्यशैली की जांच की मांग की है.

adv

इसे भी पढ़ें – कांग्रेस की नीयत पर भरोसा नहीं, विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के साथ नहीं जायेगी भाकपाः भुनेश्वर

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button