Bihar

अब महागठबंधन में घमासान, कांग्रेस ने बिहार में मांगी 12 लोकसभा सीटें

Patna: बिहार एनडीए में सीटों को लेकर विवाद थोड़ा थमता नजर आया तो महागठबंधन में सीटों को लेकर बवाल शुरु हो गया है. कहा जा रहा है कि अपने बिहार दौरे के दौरान अमित शाह ने सीटों का फॉर्मूला सेट कर दिया है. लेकिन क्या तेजस्वी यादव महागठबंधन के सहयोगी दलों के बीच सीटों का विवाद सुलझा सकेंगे. सूत्र बताते हैं कि अशोक गहलोत का बयान सीटों के बंटवारे से पहले दबाव बनाने की रणनीति के तहत आया है.

इसे भी पढ़ें-एक साथ बैठे बिना नहीं तय होगा सीटों का बंटवारा- उपेन्द्र कुशवाहा

कांग्रेस ने मांगी 12 लोकसभा सीटें, तेजस्वी तैयार नहीं

हाल ही में अशोक गहलोत ने कहा था कि सबको पता है कि लोग गठबंधन क्यों करते हैं. उन्होने ये भी कहा था कि आरजेडी और जेडीयू जैसी पार्टियों के लिए गठबंधन मजबूरी है. कांग्रेस के सूत्र बताते हैं कि कांग्रेस ने बिहार में 12 सीटों की मांग की है, लेकिन तेजस्वी यादव इतनी सीट देने को तैयार नहीं हैं. आरजेडी ने जवाब दिया है कि बिहार में उसका जनाधार अधिक है, ऐसे में पार्टी ही फैसला करेगा कि किसे कितनी सीटें मिलनी चाहिए.

Sanjeevani

इसे भी पढ़ें-मोदी सरकार को सता रही शत्रुघ्न सिन्हा की चिंता, अब मिलेगी वाई प्लस श्रेणी की सुरक्षा

जीतनराम मांझी ने मांगी लोकसभा की 5 सीटें

हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के जीतनराम मांझी ने पहले ही अपनी पार्टी के लिए पांच लोकसभा सीटों की मांग की है. जीतनराम मांझी का दावा है कि पांच सीटों पर उसका जनाधार है और वो सीट निकाल सकती है.

इसे भी पढ़ें-गहलोत के बयान पर गरमायी राजनीति, राजद और जदयू ने किया पलटवार

आरजेडी के अपने जनाधार का भरोसा

बिहार में आरजेडी का अपना ठोस जनाधार है. पार्टी को लगता है कि जिस तरह तेजस्वी की लोकप्रियता बढ़ी है, उससे पार्टी अपने दम पर भी अच्छी-खासी सीटें निकाल सकती है. ऐसे में आरजेडी कांग्रेस और हिंदुस्तान आवाम मोर्चा को नकी मनमाफिक सीटें देगी, इसपर सवाल खड़े हो रहे हैं. लेकिन सीट बंटवारे पर अंतिम निर्णय से पहले हर पार्टी दबाव की राजनीति जरुर कर रही है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Related Articles

Back to top button