न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एमएसपी में बढ़ोतरी किसानों के साथ छलावा- कांग्रेस

2019 चुनाव हारने के डर से घोषणाये कर रही मोदी सरकार-लाल किशोरनाथ शाहदेव

422

Ranchi: केंद्र की मोदी सरकार द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाने को कांग्रेस ने ढकोसला और किसानों के साथ छलावा करार दिया है. कांग्रेस प्रवक्ता लाल किशोर नाथ शाहदेव ने कहा कि बीजेपी ने किसानों की आय डेढ़ गुणा करने का वादा किया था, चार साल में उन्होने किसानों के लिए कुछ नहीं किया, जब 2019 के चुनाव नजदीक आ रहे हैं तो वे एमएसपी बढ़ाकर वाहवाही लूटना चाहते हैं. लाल किशोरनाथ शाहदेव ने कहा कि खुद को नाखून कटाकर शहीद घोषित करवाना चाहते हैं मोदी, लेकिन किसान सब समझते हैं.

इसे भी पढ़ें- पत्र फर्जी है तो लिखावट के नमूने और हस्ताक्षर की जांच हो, सबकुछ साफ हो जाएगा- बाबूलाल

‘इतिहास में पहली बार किसानों पर टैक्स लगाने वाली सरकार’

लाल किशोर नाथ शाहदेव ने कहा कि देश के इतिहास में पहली बार किसान और खेती पर टैक्स लगाने वाली मोदी सरकार ने खाद पर 5 प्रतिशत जीएसटी, ट्रैक्टर कृषि उपकरणों पर 12 प्रतिशत, एमएसटी ट्रैक्टर के टायर ट्यूब, ट्रांसमिशन पार्ट पर 18 प्रतिशत जीएसटी, कीटनाशक दवाइयों पर 18 प्रतिशत जीएसटी, कोल्ड स्टोरेज इक्यूपमेंट पर भी 18 प्रतिशत जीएसटी लगाया है. क्या ये किसानों के साथ धोखा नहीं है ?

सिर्फ सात फीसदी किसानों को मिलता है एमएसपी का फायदा

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि खुद केन्द्र सरकार की रिपोर्ट बताती है कि एमएसपी का फायदा सिर्फ सात फीसदी किसानों को ही मिल पाता है. अगर सरकार को किसानों के लिए कुछ करना ही था तो दो बाजार व्यवस्था को दुरुस्त करती, ताकि किसान आसानी से अपनी फसल बेच पाते. उन्होने कहा कि झारखंड के अधिकांश किसानों को तो एमएसपी के बारे में जानकारी तक नहीं है. यहां के किसान तो आज भी 700 से 900 रुपये प्रति क्विंटल धान बेच रहे हैं.

इसे भी पढ़ें-कांग्रेस मजबूत होगी व सभी सीटों पर चुनाव लड़ेगी : भीम कुमार

स्वामीनाथन आयोग की अनुशंसा लागू करे मोदी सरकार

लाल किशोर नाथ शाहदेव ने कहा कि स्वामीनाथन आयोग ने कहा है कि धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य कम से कम 2350 रुपये प्रति क्विंटल होना चाहिए, तब किसानों की लागत निकलेगी. मोदी सरकार ने तो लागत का डेढ़ गुणा देने का वादा किया था. फिर 1700 रुपये प्रति क्विंटल की घोषणा कर अपने फैसले को ऐतिहासिक बताना इतिहास के साथ मजाक नहीं तो और क्या है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: