न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मोदी सरकार के अन्याय को खत्म करने के लिए कांग्रेस न्याय लेकर आयी है : राहुल गांधी

45

Gaya (Bihar) : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर सीधा हमला बोला और कहा कि केंद्र द्वारा किये गए ‘‘अन्याय’’ को खत्म करने के लिए उनकी पार्टी ‘‘न्याय’’ लेकर आयी है. राहुल गांधी का इशारा प्रस्तावित ‘न्यूनतम आय गारंटी योजना’ की ओर था.

राहुल का वार

राहुल ने कहा कि ‘‘यह देश में सभी गरीबों के बैंक खातों में 15 लाख रुपये डालने के मोदी द्वारा किये गए बड़बोले वादे से उलट है. उन्होंने कहा कि संक्षिप्त शब्द ‘‘न्याय’’ के तौर पर जानी जाने वाली प्रस्तावित योजना एक वास्तविक उपाय है, जिसे अर्थव्यस्था को बिना नुकसान पहुंचाये या आम आदमी पर कर का बोझ बढ़ाये बिना लागू किया जा सकता है.

उन्होंने मोदी पर यह ‘‘झूठ’’ फैलाने का आरोप लगाया कि न्याय को लागू करना खर्चीला होगा जिसके लिए कांग्रेस को पर्याप्त धनराशि नहीं मिलेगी जब तक वेतनभोगी वर्ग पर और कर नहीं लगाया जाता.

इसे भी पढ़ेंः इमरान खान को मोदी से उम्मीद, कहा- बीजेपी सत्ता में आयी तो शांति बहाली की बेहतर संभावना

मोदी ने संभाल रखी है अंबानी, नीरव व मेहुल जैसों की चौकीदार की भूमिका

एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए राहुल ने कहा कि मैं वादा करता हूं कि योजना को पार्टी के सत्ता में आने के तत्काल बाद लागू किया जाएगा. हम पैसे अनिल अंबानी, नीरव मोदी और मेहुल चोकसी जैसे लोगों की जेबों से निकालेंगे जिनके चौकीदार की भूमिका मोदी ने संभाल रखी है.

गांधी ने मोदी पर उनके चौकीदार दावे को लेकर हमला बोलते हुए कहा कि गरीब एक चौकीदार नहीं रख सकता जो कि एक ऐसी विलासता है जिसका वहन केवल अमीर ही कर सकते हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी नीरव मोदी, अंबानी और चोकसी जैसे बड़े उद्योगपतियों के ही चौकीदार हैं. गांधी की टिप्पणी का सभा में मौजूद लोगों ने ‘‘चौकीदार चोर है’’ के नारे लगाकर स्वागत किया.

उन्होंने कहा कि न्याय के तहत 72 हजार रुपये प्रतिवर्ष का वादा किया गया है जो कि पांच वर्षों में 3.60 लाख रुपये से अधिक बैठता है. अब आपको 15 लाख रुपये के झूठ और 3.60 लाख रुपये के सच के बीच चयन करना है.

उल्लेखनीय है कि इस मौके पर अभिनेता व नेता शत्रुघ्न सिन्हा मौजूद थे जो हाल में भाजपा छोड़कर पार्टी में शामिल हुए हैं. इसके अलावा इस मौके पर महागठबंधन के स्थानीय उम्मीदवार एवं बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी एवं अन्य मौजूद थे.

इसे भी पढ़ेंः आयकर विभाग की कार्रवाई पर चुनाव आयोग सख्तः कहा- आगे से कार्रवाई से पहले सूचित करें

मोदी के नाटक में किसान, श्रमिक व बेरोजगार नहीं

गांधी ने 11 अप्रैल को लोकसभा चुनाव के लिए प्रचार थमने से ठीक पहले गया में आयोजित रैली में कहा कि नारा ‘चौकीदार चोर है’ पूरे देश में गूंज रहा है और इसने नारा ‘अच्छे दिन आने वाले हैं’ की जगह ले ली है जो मोदी ने पांच वर्ष पहले दिया था. इस बदलते राजनीतिक मूड से परेशान वह एक दूसरा जुमला ‘मैं भी चौकीदार’ लेकर आए हैं.

उन्होंने कहा कि मोदी को पता होना चाहिए कि उनके इस नाटक में उनके साथी उनके साथ हो सकते हैं लेकिन किसान, श्रमिक और बेरोजगार युवक नहीं. गांधी ने मोदी पर चुनाव प्रचार के दौरान उनके आक्रामक राष्ट्रवादी रुख को लेकर भी हमला बोला और उन पर राफेल सौदे को लेकर निशाना साधा.

कांग्रेस नेता ने कहा कि फ्रांस के साथ मनमोहन सिंह के समय बनी सहमति के तहत लड़ाकू विमानों का निर्माण एचएएल द्वारा किया जाना था. उन्होंने दावा किया कि रिण लेने वाले किसान भय में जीते हैं कि उन्हें कर्ज नहीं चुकाने के लिए जेल जाना पड़ सकता है. यह इस तथ्य के बावजूद है कि बड़े रिण चूककर्ता हजारों करोड़ रुपये के बकाये रिण के साथ देश से भागने में सफल रहे.

उन्होंने कहा कि हम यह सुनिश्वित करेंगे कि रिण नहीं चुका पाने के चलते किसी किसान को परेशान नहीं होना पड़े. गांधी ने कहा कि हमने मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, और राजस्थान जैसे राज्यों में किसानों के रिण माफ किये और ‘न्याय’ जैसे वादे केवल एक शुरुआत है. उन्होंने सरकारी विभागों में खाली पड़े 22 लाख पद भरने की अपनी प्रतिबद्धता भी दोहरायी.

इसे भी पढ़ेंः आयकर विभाग की कार्रवाई पर चुनाव आयोग सख्तः कहा- आगे से कार्रवाई से पहले सूचित करें

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्लर्क नियुक्ति के लिए फॉर्म की फीस 1000 रुपये, कितना जायज ? हमें लिखें..
झारखंड में नौकरी देने वाली हर प्रतियोगिता परीक्षा विवादों में घिरी होती है.
अब JSSC की ओर से क्लर्क की नियुक्ति के लिये विज्ञापन निकाला है.
जिसके फॉर्म की फीस 1000 रुपये है. यह फीस UPSC के जरिये IAS बनने वाली परीक्षा से
10 गुणा ज्यादा है. झारखंड में साहेब बनानेवाली JPSC  परीक्षा की फीस से 400 रुपये अधिक. 
क्या आपको लगता है कि JSSC  द्वारा तय फीस की रकम जायज है.
इस बारे में आप क्या सोंचते हैं. हमें लिखें या वीडियो मैसेज वाट्सएप करें.
हम उसे newswing.com पर  प्रकाशित करेंगे. ताकि आपकी बात सरकार तक पहुंचे. 
अपने विचार लिखने व वीडियो भेजने के लिये यहां क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: