JharkhandLead NewsRanchi

कांग्रेस और झामुमो का शिष्टमंडल मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से मिला, भाजपा पर आचार संहिता उल्लंघन का लगाया आरोप

Ranchi : कांग्रेस एवं झामुमो का संयुक्त शिष्टमंडल मुख्य निर्वाचन अधिकारी से मिला और कल हुई विश्वास रैली को आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का मामला बताया. शिष्टमंडल में झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमिटी के प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद, झामुमो के वरिष्ठ नेता सुप्रियो भट्टाचार्य, कांग्रेस के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष संजय लाल पासवान, कार्यालय प्रभारी अमूल्य नीरज खलखो, प्रदेश प्रवक्ता सतीश पॉल मुंजनी एवं ईश्वर आनंद शामिल थे.

मौके पर उपस्थित मीडिया को संबोधित करते हुए झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमिटी के प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने कहा कि चुनाव में सम्भावित हार को देख कर भाजपा ने आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करने से भी परहेज नहीं किया.

इसे भी पढ़ें:लातेहार: पैकेट बंद जहरीला स्नैक्स खाने से चार बच्चियां बीमार, एक की मौत

Catalyst IAS
ram janam hospital

राज्य के जनजातीय समुदाय के द्वारा नकारे जाने के बाद धन बल का उपयोग कर झारखंड के भोले-भाले आदिवासियों को भरमाने की कोशिश की है, वो भी चुनाव आयोग की अनुमति के बगैर. इसलिए विधि सम्मत कार्रवाई आवश्यक है. हम इसी आग्रह को लेकर चुनाव आयोग पहुंचे हैं.

The Royal’s
Sanjeevani

झामुमो नेता सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि भाजपा ने कल की रैली में आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन कर यह बता दिया कि भाजपा संविधान या संवैधानिक संस्थाओं का भी सम्मान नहीं करती. चुनाव आयोग मामले को गंभीरता से लेते हुए विधि सम्मत कारवाई करे.

इसे भी पढ़ें:परीक्षार्थीगण कृप्या ध्यान दें : हटिया से सिकंदराबाद के लिए 10 जून को रेलवे चलाएगा एग्जाम स्पेशल ट्रेन

शिष्टमंडल ने ज्ञापन सौंप कर मुख्य निर्वाचन अधिकारी का ध्यान आकृष्ट कराया कि मांडर विधानसभा उप-चुनाव की अधिसूचना जारी हो चुकी है. नामांकन की प्रक्रिया चल रही है. ऐसे में 5 जून 2022 को रांची के मोरहाबादी मैदान में भारतीय जनता पार्टी के द्वारा जनजातीय समुदाय को केन्द्रित कर विश्वास रैली का आयोजन किया गया था. जिसमें भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा शामिल हुए. साथ ही साथ प्रदेश भाजपा के सभी नेताओं ने भी मंच साझा किया.

इस संदर्भ में कांग्रेस-झामुमो का संयुक्त शिष्टमंडल यह जानना चाहता है कि क्या चुनाव आयोग से इस रैली के आयोजन की अनुमति ली गयी थी अथवा नहीं. क्योंकि मंच से वक्ताओं के द्वारा सीधे-सीधे मांडर चुनाव को प्रभावित करने के दृष्टिकोण से लगातार उद्बोधन किया गया, विशेषतः भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के द्वारा मांडर विधानसभा चुनाव के निमित्त भाजपा के घोषित उम्मीदवार गंगोत्री कुजूर का नाम लेकर कमल खिलाने को लेकर विश्वास दिलाने की अपील किया जाना पूरी तरह से आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के दायरे में आता है.

इसे भी पढ़ें:अस्सिटेंट इंजीनियर नियुक्ति मामले में हाइकोर्ट ने कहा- आयोग पूरी रिपोर्ट कोर्ट को सौंपे

अतः झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमिटी एवं झामुमो का यह शिष्टमंडल चुनाव आयोग से आग्रह करता है कि अगर इस रैली की अनुमति विधि-सम्मत तरीके से ली गयी तो इस रैली का पूरा खर्च घोषित उम्मीदवार के चुनावी खर्च में शामिल किया जाये और अगर बगैर अनुमति के चुनावी प्रक्रिया जारी रहने के दरम्यान इतना बड़ा आयोजन मतदाताओं को प्रभावित करने के दृष्टिकोण से किया गया है तो यह पूरी तरह से आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के दायरे में आता है.

इस पर चुनाव आयोग के द्वारा विधि-सम्मत कार्रवाई अपेक्षित है. शिष्टमंडल ने ज्ञापन के साथ उपरोक्त मामले से संबंधित जेपी नड्डा के भाषण का पेन ड्राइव भी सौंपा.

इसे भी पढ़ें:राज्य में पांच हजार मनरेगा कर्मी एक फिर आंदोलन की तैयारी में

Related Articles

Back to top button