न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

कंफ्यूजन खत्म, एक अप्रैल से राज्य में प्राइवेट प्लेयर्स बेचेंगे शराब

1,565

Ranchi : राज्य में अब कल से यानि कि एक अप्रैल से प्राइवेट प्लेयर्स शराब बेचेंगे. शराब कौन बेचेगा इसको लेकर कंफ्यूजन बना हुआ था. लेकिन राज्य में अब प्राइवेट प्लेयर्स शराब बेचेंगे इस बात को हरी झंडी दिखा दी गयी है. चुनाव आयोग ने इसकी अनुमति भी दे दी है.

eidbanner

उल्लेखनीय है कि अनुमति चुनाव आयोग ने आज ही दी है. राज्य सरकार के द्वारा राज्य भर में 1664 शराब दुकान खोली जानी है. राज्य भर में उत्पाद विभाग के तरफ से 799 ग्रुप बनाए गए हैं जिनकी बंदोबस्ती की जा रही है. इन 799 ग्रुपों में देसी 565 विदेशी 718 और कम्पोजिट 381 दुकानें हैं.

कल से पहले चरण की लाॅटरी के जरिये चुने गए लोगों के द्वारा दुकानें संचालित की जाएंगी. पांच मार्च 2019 को लाॅटरी की गयी थी. जो कल से नई व्यवस्था के तहत शराब बेच पाएंगे. उत्पाद आयुक्त भोर सिंह यादव ने बताया कि जल्द ही दूसरे राउंड की भी लाॅटरी प्रक्रिया प्रारंभ कर दी जाएगी.

इसे भी पढ़ें : लोस चुनाव को लेकर वाहन चेकिंग अभियान में पुलिस को मिली सफलता, हथियार के साथ बिहार के दो अपराधी…

दुकान खोलने और बंद करने का समय भी तय

विभाग ने तय किया है कि शराब की सरकारी दुकानें सुबह 11 बजे खुलेंगी और रात के 11 बजे तक खुली रहेंगी. इस बीच किसी तरह की कोई छुट्टी का प्रावधान नहीं है. एमआरपी से अधिक राशि पर शराब बेचे जाने की सूरत में लाइसेंसधारियों का लाइसेंस रद्द करने का प्रावधान है.

हाता के लिए भी रखी गयी शर्त

अगर कोई विदेशी शराब के लाइसेंसधारी हाता में ग्राहकों को बैठा कर शराब पिलाना चाहता है तो उसके लिए 600 स्क्वायर फीट की जगह होनी चाहिए. एसी लगा होना चाहिए और और साफ पानी की व्यवस्था होनी चाहिए.

वहीं हाता का लाइसेंस शुल्क विदेशी शराब पर 20 फीसदी और कम्पोजिट पर 10 फीसदी बढ़ा दी जाएगी. इस साल विभाग का टारगेट 1558 करोड़ का है. पिछले वित्त वर्ष में यह टारगेट 1000 करोड़ का था.

इसे भी पढ़ें : पलामू : जमाने के साथ बहुत कुछ बदला, 1970 के दशक में जनप्रतिनिधि धनबल से नहीं, जमीनी पकड़ से जीतते थे…

हर साल किया जाएगा लाइसेंस रिन्यूअल

ये दुकानें देसी, विदेशी और कम्पोजिट दुकान (देसी+विदेशी) हैं. राज्य भर में उत्पाद विभाग की तरफ से 799 ग्रुप हैं जिनकी बंदोबस्ती की जानी है. इन 799 ग्रुप में देसी-565, विदेशी-718 और कम्पोजिट-381 दुकानें हैं. यानी राज्य भर में सरकार की तरफ से कुल 1664 शराब की दुकानें खोली जानी हैं.

हर ग्रुप की बंदोबस्ती तीन साल के लिए की गयी है. लेकिन लाइसेंस रिन्यूअल हर साल किया जाएगा. वहीं, हर साल होने वाले लाइसेंस रिन्यूअल पर विभाग की तरफ से शुल्क बढ़ाया या घटाया जा सकता है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: