न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अनशन पर बैठी दो #Anganwadi सेविकाओं की स्थिति नाजुक, प्रशासन ने जबरन कराया अस्पताल में भर्ती

कई बार पानी चढ़ने के बाद भी महिलाओं की स्थिति नाजुक, लाठीचार्ज से घायल तीन महिलाएं लौटीं अपने घर.

683

Ranchi : पिछले 14 दिनों से अनशन में बैठी आंगनबाड़ी सेविकाओं की हालत बिगड़ रही है. गुरुवार को प्रशासन की ओर से जबरन दो आंगनबाड़ी सेविकाओं को सदर अस्पताल ले जाया गया.

एंबुलेंस लेकर आयी सदर अस्पताल की टीम ने काफी जोर दिया, तब जाकर वे अस्पताल जाने के लिये तैयार हुईं. अस्पताल जाने वाली महिलाओं में वीणा सिन्हा और कमली देवी हैं.

धरना स्थल में दर्जनों महिलाएं अनशन पर हैं जिनमें से दो महिलाओं को अस्पताल ले जाया गया.

सेविकाओं के अनुसार अनशन पर बैठी महिलाओं में सुधा लिंडा और सुमन सेमर्गी की भी हालत ठीक नहीं है. दोनों ही महिलाएं पिछले 14 दिनों से अनशन पर हैं.

hotlips top

हालांकि मेडिकल टीम के आने पर पहले तो मोर्चा ने कुछ देर में महिलाओं को अस्पताल भेजने की बात की. अधिकारियों ने लिखित में अनशनकारी महिलाओं की जिम्मेदारी लेने की बात की.

जिसके बाद मोर्चा की ओर से महिलाओं को अस्पताल भेजा गया. हालांकि तब भी महिलाएं नहीं जाना चाह रही थीं.

इसे भी पढ़ें : बोकारो : मासूम का अपहरण कर फिरौती वसूलने के बाद की थी हत्या, तीन दोषियों को सजा-ए-मौत

पानी चढ़ने के बाद भी स्थिति है नाजुक

झारखंड राज्य आंगनबाड़ी कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा के बैनर तले महिलाएं आंदोलनरत हैं. महिलाओं ने बताया कि वीणा सिन्हा की तबीयत सबसे अधिक खराब है.

दो दिन पहले ही उन्हें पानी चढ़ाया गया था. लेकिन 14 दिनों से अनशन में रहने के कारण उनकी तबीयत बिगड़ती जा रही है. वहीं अन्य महिलाओं को भी कई बार पानी चढ़ाया गया है.

मोर्चा की ओर से कहा गया कि सरकार जब तक इनके हित में निर्णय नहीं लेती तब तक आंदोलन जारी रहेगा. इनकी प्रमुख मांगों में मानदेय में वृद्धि है.

21 अगस्त से महिलाएं आंदोलनरत है. वहीं 13 सिंतबर से दर्जनों महिलाएं अनशन में है. आगे की रणनीति आने वाले समय में बनायी जायेगी.

इसे भी पढ़ें : #Dhullu तेरे कारणः पूर्व बियाडा अध्यक्ष विजय झा ने विधायक ढुल्लू महतो के खिलाफ शुरू किया सत्याग्रह

लाठीचार्ज के बाद तीन महिलाएं गयीं घर

पुलिसिया लाठीचार्ज से घायल तीन महिलाओं को वापस उनके घर भेज दिया गया है. इन तीन महिलाओं में कर्मी लकड़ा, हुस्ना आरा और किरण देवी शामि हैं.

देवघर जिला अध्यक्ष राखी देवी ने बताया कि महिलाएं चल नहीं पा रही थीं जिसके कारण उन्हें घर भेज दिया गया. हालांकि लाठीचार्ज से 12 महिलाएं घायल हुई थीं. जिसे मोर्चा ने अपने ही स्तर से इलाज कराया.

इन 12  से में पांच महिलाओं को अधिक चोटें आयीं. अब तीन महिलाएं घर जा चुकी हैं. वहीं सुजाता देवी और विनिता देवी अभी भी आंदोलनरत हैं.

बता दें कि मंगलवार को सीएम आवास घेराव करने जा रही महिलाओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया था.

वहीं कोडरमा से आंदोलन में आ रही महिलाओं का बस बुधवार को चरही में दुर्घटनाग्रस्त हो गया. जिसमें दस महिलाएं घायल हैं. उन्हें  हजारीबाग सदर अस्पताल में भर्ती किया गया है. बाकी महिलाएं आंदोलन में आयी हैं.

इसे भी पढ़ें : जमशेदपुर : #ShramShakti अभियान के उद्घाटन में श्रमिकों को पगड़ी तो पहना दी, पर नहीं दिया गया रजिस्ट्रेशन कार्ड

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like