JharkhandLead NewsRanchi

RIMS का हाल : ट्रामा में पोस्ट कोविड के मरीज, गैलरी में गंभीर मरीजों का इलाज

Ranchi : राज्य के सबसे बड़े हॉस्पिटल रिम्स को हाईटेक सुविधाओं से लैस अपग्रेडेड हॉस्पिटल बनाने की बात कही जा रही है. वहीं विभाग लगातार बिल्डिंग का विस्तार करने को लेकर योजनाएं भी बना रहा है. जिससे कि मरीजों को इलाज की बेहतर सुविधा मिल सके. लेकिन यहां तो ट्रामा सेंटर बनाए जाने के बाद भी वहां पर गंभीर मरीजों का इलाज नहीं किया जा रहा है. जिसका खामियाजा न्यूरो वार्ड में इलाज के लिए आने वाले मरीज भुगत रहे है. इतना ही नहीं मरीज मजबूरी में गैलरी में जमीन पर इलाज करा रहे हैं. वहीं बारिश के समय तो उनका दर्द और बढ़ता जा रहा है. बताते चलें कि न्यू ट्रामा सेंटर में पोस्ट कोविड मरीजों को एडमिट कर उनका इलाज किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें : नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी को फंड देने का मामला: राज्य सरकार और यूजीसी ने शपथ पत्र दायर करने के लिए हाईकोर्ट से मांगा समय

पोस्ट कोविड के मरीजों का इलाज

हॉस्पिटल में 100 बेड का न्यू ट्रामा सेंटर बिल्डंग तैयार है. जहां पर 50-50 बेड इमरजेंसी और ट्रामा के मरीजों के लिए रखे गए हैं. लेकिन इस बिल्डिंग को प्रबंधन ने कोविड सेंटर बना दिया. आज रिम्स में कोविड का एक भी पॉजिटिव मरीज हॉस्पिटल में नहीं है. इसके बावजूद पूरे बिल्डिंग पोस्ट कोविड के 20 मरीजों का इलाज भी इसी बिल्डिंग में किया जा रहा है. जबकि उनका इलाज दूसरे वार्ड में रखकर भी किया जा सकता है.

advt

गंभीर मरीजों को रखा जमीन पर

सेंट्रल इमरजेंसी में हर दिन 400 के करीब मरीज आते हैं. जिसमें 100 मरीज गंभीर स्थिति में आते हैं. ऐसे में उन्हें तत्काल आइसीयू में रखकर इलाज की जरूरत होती है. इसी को देखते हुए ही 100 बेड का ट्रामा सेंटर बनाया गया था. बावजूद इसके मरीजों को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है. गंभीर मरीज भी जमीन पर ही इलाज करा रहे हैं. चूंकि न्यूरो वार्ड में बेड से दोगुने मरीज भर्ती हैं. फिर भी प्रबंधन मरीजों को ट्रामा सेंटर में शिफ्ट करने को लेकर गंभीर नहीं है.

बारिश ने बढ़ाई मरीजों की परेशानी

जमीन पर इलाज तक तो मरीजों और उनके परिजनों को परेशानी नहीं हो रही थी. जमीन ही सही इलाज तो हो रहा है. लेकिन बारिश ने उनकी परेशानी और बढ़ा दी है. लगातार बारिश के कारण रिम्स न्यूरो वार्ड की गैलरी में पानी भर जा रहा है. ऐसी स्थिति में मरीजों को लेकर परिजन यहां-वहां भटक रहे हैं. वहीं कुछ लोग तो छाता लेकर मरीजों को बारिश से बचा रहे हैं.

इस मामले में पीआरओ डॉ डीके सिन्हा ने कहा कि फिलहाल कोविड की तीसरी लहर को लेकर अलर्ट है. इसलिए बिल्डिंग को रिजर्व रखा गया है. नए मामले अभी तो नहीं आ रहे लेकिन हमारी तैयारी पूरी है. इस बिल्डिंग को कोविड सेंटर बनाया गया है, इसलिए वहां जेनरल मरीजों को फिलहाल नहीं रखा जा रहा है.

इसे भी पढ़ें : भाजपा नेता जीतराम की हत्या मामले में पुलिस को मनोज की तलाश, SIT ने शुरू की जांच

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: