Education & CareerJharkhandLead NewsRanchi

राज्य के सरकारी हाई स्कूलों व प्लस टू स्कूलों में होगी कंप्यूटर की पढ़ाई, प्रक्रिया शुरू

  •  2014-15 से शुरू हुई थी योजना
  •  छह साल में भी सभी स्कूलों में नहीं बन पाए कंप्यूटर लैब
  •  अब फिर निकला टेंडर

Ranchi : राज्य के हाई स्कूल और प्लस टू स्कूल में एक बार फिर कंप्यूटर लैब डेवलप होंगे. यहां के स्टूडेंट्स के बीच कंप्यूटर की पढाई करायी जायेगी. इसके लिए झारखंड शिक्षा परियोजना की ओर से तैयारियां शुरू हो गयी है. टेंडर की प्रकिया भी अंतिम चरण में है.

कंप्यूटर लैब बनते ही पांच लाख से अधिक स्टूडेंट्स को प्रशिक्षण देने का काम शुरू हो जायेगा. हाई स्कूल और प्लस टू स्कूल्स के स्टूडेंट्स को कंप्यूटर की पढाई करने की योजना 2014-15 से शुरू हुई थी. छह साल में योजना के ऑर्डर के अनुसार लैब तक ही नहीं बन सके.

इसे भी पढ़ें : गिरिडीह : बंद पड़े ब्रह्मंडीहा ओपन कास्ट खदान से आंध्र प्रदेश की कंपनी करेगी कोयला उत्पादन, करीब एक दशक से बंद था खदान

advt

1215 स्कूलों में शुरू हो जायेगी पढाई

केंद्र और राज्य सरकार के संयुक्त प्रयास से शुरू होने वाले इस प्रोजेक्ट के तहत राज्य के 1215 सरकारी स्कूलों में कंप्यूटर की पढ़ाई होगी. झारखंड शिक्षा परियोजना ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है. पहले कंप्यूटर की पढाई राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के तहत शुरू की गयी थी. कुछ वर्षों तक इसी अभियान के तहत पढाई करायी गयी.
अभियान के बंद होने के बाद इसे समग्र शिक्षा अभियान के तहत संचालित किया जा रहा है. इसके तहत एक स्कूल को कंप्यूटर लैब स्थापित करने के लिए 6.40 लाख रुपये दिये जाते हैं. योजना के तहत 60 फीसदी राशि केंद्र सरकार और 40 फीसदी राशि राज्य सरकार देती है.

इसे भी पढ़ें : झारखंड में विधायकों की खरीद फरोख्त मामले में रांची के बड़े होटल में छापेमारी, 4 लोग हिरासत में !

1215 स्कूलों में लैब बने ही नहीं

बताते चलें कि पहले राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान और अब समग्र शिक्षा अभियान के तहत 2189 स्कूलों में पढाई करायी जानी थी. लेकिन अभी लैब पूरी तरह से डेवलप हो ही नहीं सका. सरकार की ओर से 2189 स्कूलों में लैब बनाने की अनुमति मिली थी लेकिन 974 स्कूलों में ही कंप्यूटर लैब बने.

इसे भी पढ़ें : BIG NEWS : गांवों में बिना नक्शा के भवन बनाने वालों की खैर नहीं, सरकार  करेगी कार्रवाई

विभाग के आंकड़े बताते हैं योजना के शुरुआती वर्ष 2014-15 में 465 स्कूलों में कंप्यूटर की पढ़ाई कराने को सहमति दी गयी थी. इन सभी स्कूलों में दिसंबर 2016 में कंप्यूटर लैब स्थापित कर दिया गया. इसके बाद वर्ष 2017-18 के 449 स्कूलों में से 435 में और वर्ष 2018-19 के 488 स्कूलों में से 13 में कंप्यूटर लैब स्थापित किया गया. जबकि, वर्ष 2020-21 के 726 स्कूलों में से किसी में भी कंप्यूटर लैब स्थापित नहीं किया गया है.

इसे भी पढ़ें : Ranchi News : हेहल अंचल क्षेत्र में आज नहीं चलेगा अतिक्रमण हटाओ अभियान

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: