JharkhandPalamu

एक माह में मंडल डैम से जुड़े सभी लंबित कार्य को पूरा करें : नितिन गड़करी

Palamu : करीब चार दशक से लंबित पड़ी लातेहार जिले के मंडल में अवस्थित उतरी कोयल जलाशय परियोजना (मंडल डैम) के कार्य की समीक्षा को लेकर मंगलवार को नयी दिल्ली स्थित श्रम शक्ति भवन में केन्द्रीय जलसंसाधन मंत्री नितिन गड़करी के साथ उच्चस्तरीय बैठक हुई.

बैठक में केंद्रीय राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघावल, झारखंड के जल संसाधन मंत्री चंद्र प्रकाश चौधरी के साथ दोनों राज्य एवं भारत सरकार के सबधित विभागों के वरीय आधिकारी और चतरा, पलामू, औरंगाबाद, जहानाबाद, गया के सांसद मौजूद थे.

इसे भी पढ़ेंः सरकार ने किया 24 आईएएस अधिकारियों का तबादला, रांची उपायुक्त रहे मनोज कुमार रांची नगर निगम के आयुक्त बने

केंद्रीय मंत्री ने की क्रमवार समीक्षा

केंदीय मंत्री ने डैम से जुड़ी अबतक के हुए कार्य और लंबित कार्य के संबंध में क्रमवार समीक्षा की. केंद्रीय मंत्री ने डैम को लेकर सेकेंड फेज क्लीयर नहीं किये जाने पर नाराजगी व्यक्त की. चतरा सांसद सुनील सिंह ने केंद्रीय मंत्री को अवगत करते हुए कहा कि मंडल डैम परियोजना केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री के महत्वपूर्ण योजनाओं में से एक है, जिसे बिहार-झारखंड दोनों राज्यों को फायदा होगा पर अधिकारियों की सुस्ती के कारण डैम का काम जल्द शुरू नहीं हो पा रहा है, जिसे यह महत्वाकांक्षी योजना अबतक अधूरी पड़ी है.

वही केंद्रीय मंत्री ने विभागों के साथ समीक्षा कर एक माह के अंदर सभी लंबित कार्य को पूरा कर रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया. साथ ही डैम को लेकर अक्टूबर के पहले सप्ताह के एक बैठक आयोजित कर अंतिम समीक्षा करते हुए आधारशीला रखने की तिथि तय करने का आश्वासन दिया.

इसे भी पढ़ेंः  दिखावे की “चकाचौंध” में राज्य को डूबा तो नहीं रही “सरकार” ?

नवम्बर-दिसम्बर में रखी जायेगी आधारशिला : चतरा सांसद

इधर, सांसद सुनील सिंह ने बैठक को पूरी तरह से सकारात्मक बताया. उन्होंने कहा कि केंदीय मंत्री का डैम के प्रति गभीरता देंखने को मिली, जिसे साफ अंदाज लग रहा है कि अक्टूबर में होने वाली बैठक के बाद नवम्बर से दिसम्बर माह में आधारशीला रखे जाने की पूरी संभावना है.

मौके पर पलामू के सांसद वीडी राम, औरंगाबाद के सांसद सुशील सिंह, गया सांसद हरि मांझी, जहानाबाद सांसद अरूण कुमार, मनिका विधायक हरिकृष्ण सिंह, जिला सांसद प्रतिनिधि जयवर्द्धन सिंह, सांसद सचिव प्रभुदयाल यादव समेत दोनों राज्य के विभागीय सचिव और केंदीय अधिकारी मौजूद थे.

Related Articles

Back to top button