न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आम चुनाव से पहले भारत में हो सकते हैं सांप्रदायिक दंगे- US इंटेलिजेंस

1,781

Washington: भारत में लोकसभा चुनाव में कुछ महीने बाकी है. लेकिन दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र वाले देश में होनेवाले चुनाव पर बाकी देशों की नजर है. चुनाव से पहले अमेरिका की एक रिपोर्ट सामने आई है जो हर किसी को चौंका सकती है. अमेरिकी स्पाईमास्टर ने दावा किया है कि भारत में आम चुनाव के दौरान यदि भाजपा हिंदू राष्ट्रवादी मुद्दे पर जोर देगी तो सांप्रदायिक दंगे भड़कने की प्रबल आशंका है. अमेरिकी नेशनल इंटेलीजेंस के निदेशक डेन कोट्स द्वारा इंटेलीजेंस पर सीनेट सेलेक्ट कमेटी को सौंपे लिखित दस्तावेज में यह दावा किया गया है.

ये रिपोर्ट उस मूल्यांकन का हिस्सा है जिसमें अमेरिका की इंटेलिजेंस एजेंसियां दुनियाभर में पैदा होने वाले खतरों को मापती है. बता दें कि अमेरिका में हर साल की शुरुआत में वहां की सभी इंटेलिजेंस एजेंसियां एक रिपोर्ट जारी करती हैं, जिसमें दुनियाभर में होने वाली सभी घटनाओं का मूल्यांकन किया जाता है.

क्या है रिपोर्ट में

रिपोर्ट में लिखा गया है, ‘’अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भारतीय जनता पार्टी हिंदू राष्ट्रवादी मुद्दों पर आगे बढ़ती है, तो भारत में होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले सांप्रदायिक हिंसा की संभावनाएं बढ़ सकती हैं.’’ कोट्स और अन्य शीर्ष अमेरिकी खुफिया एजेंसियों ने सीनेट सेलेक्ट कमेटी के समक्ष वैश्विक खतरे की वस्तुस्थिति रखी है. इनमें हाल ही में भारत दौरे से लौटे सीआईए निदेशक गिना हेस्पल, एफबीआई के निदेशक क्रिस्टोफर रे और रक्षा खुफिया एजेंसी के निदेशक राबर्ट एश्ले भी शामिल हैं.

कोट्स ने लिखित रिपोर्ट में कहा है कि नरेंद्र मोदी के पहले कार्यकाल में बीजेपी की नीतियों के कारण भाजपा शासित कुछ प्रदेशों में सांप्रदायिक तनाव बढ़े हैं. और हिंदुवादी नेता अपने समर्थकों को उत्तेजित करने के लिए हिंदू राष्ट्रवादी प्रचार के नाम पर छोटी-मोटी हिंसा का इशारा कर सकते हैं.

पाकिस्तान समर्थित आतंकी करते रहेंगे हमले

Related Posts

अमित शाह ने चुनावी रैली में कहा, पंडित नेहरू ने संघर्ष विराम नहीं कराया होता, तो #POK का अस्तित्व नहीं होता

कश्मीर में कोई अशांति नहीं है और आने वाले दिनों में आतंकवाद समाप्त हो जायेगा.

अमेरिकी खुफिया एजेंसी ने इस बात का भी खुलासा किया है कि पाकिस्तान समर्थित आतंकी संगठन भारत और अफगानिस्तान पर आतंकी हमले जारी रखेंगे. रिपोर्ट में दावा किया है कि आम चुनाव से पहले भारत और पाकिस्तान के संबंध भी तनावपूर्ण हो सकते हैं.

उन्होंने रिपोर्ट में कहा कि भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर लाइन ऑफ कंट्रोल, क्रॉस बॉर्डर टेररिज्म में चुनाव तक बढ़ोतरी हो सकती है जो दोनों देशों में तनाव को बढ़ाएगा. इसके साथ ही डैन कोट्स ने कहा है कि आतंकी गतिविधियों के खिलाफ सहयोग को लेकर पाकिस्तान की संकीर्ण मानसिकता से महज उन आतंकी संगठनों जिनसे पाकिस्तान को खतरा है पर कार्रवाई से तालिबान के खिलाफ लड़ रहे अमेरिका को केवल विफलता के साथ ही हतोत्साहित ही होना होगा.

इसे भी पढ़ेंः कोबरापोस्ट का दावाः DHFL ने किया 31,000 करोड़ का घोटाला, अवैध तरीके से BJP को दिया 20 करोड़ का चंदा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: