JharkhandRamgarh

रामगढ़ घाटी में टेलर व ट्रैक्टर के बीच टक्कर, तीन की मौत

Ramgarh: रामगढ़-रांची मुख्य मार्ग के चुटूपालू घाटी में बुधवार को दो भारी वाहनों की टक्कर गयी. इस दुर्घटना में तीन लोगों की मौत हो गयी. दुघर्टना के कारण एनएच पर कुछ देर के लिए आवागमन बाधित हो गया था.

Jharkhand Rai

इधर, घटना की सूचना मिलने पर मौके पर रामगढ़ थाना की पुलिस पहुंचकर सभी शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. खबर लिखे जाने तक मृतकों की शिनाख्त नहीं हो पायी थी.

इसे भी पढ़ें- भाजपा विधायक को CM शिवराज पर भरोसा नहीं? मुंबई में फंसे MP के लोगों के लिए सोनू सूद से मांगी मदद

टेलर ने पीछे से मारी ट्रैक्टर को टक्कर

रांची की ओर से आ रहे टेलर ने रामगढ़ घाटी के पास एक ट्रैक्टर को पीछे से धक्का मार दिया. टक्कर इतनी जोरदार थी कि टेलर असंतुलित हो गया और खाई की तरह मुड़ गया. बगल में एक खराब ट्रक खड़ा था जिससे जाकर टेलर टकरा गया. इस घटना में टेलर व ट्रैक्टर दोनों ही पूरी तरह से छतिग्रस्त हो गये.

Samford

वहीं हादसे में टेलर और ट्रैक्टर पर सवार तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गयी. अभी तक मृतकों की पहचान नहीं हो पायी है. सभी के शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया गया है.

इससे पहले बुधवार की सुबह घाटी के गड़के मोड़ पर क्रेन लदा एक टेलर अनियंत्रित होकर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. इस टेलर पर सवार चार लोग गंभीर रूप से घायल हो गये थे. उन सभी का इलाज सदर अस्पताल में चल रहा है.

इसे भी पढ़ें- Cyclone Nisarga का महाराष्ट्र-गुजरात पर साया: तूफान ने पकड़ी रफ्तार, हाई टाइड का अलर्ट

रांची से रामगढ़ का सफर का समय हुआ कम, बढ़ गये मौत के आंकड़े

रांची से रामगढ़ का सफर का समय कम हो गया है लेकिन मौत के आंकड़े बढ़ गये हैं. रांची-पटना फोरलेन सड़क चुटूपालू घाटी इन दिनों मौत की घाटी बन गयी है. हर दिन यहां पर दुर्घटना होती रहती है. इस मार्ग से हर दिन हजारों भारी वाहन तेज रफ्तार से गुजरते हैं. जिसका नतीजा यह है कि घाटी में दुर्घटना का सिलसिला जारी है.

रांची से रामगढ़ का सफर का समय कम हुआ, लेकिन अधिक संख्या में लोग मौत के नजदीक पहुंचते गये हैं. रांची-पटना फोरलेन सड़क चुटूपालू घाटी में हर महीने औसतन 10 लोगों की सड़क दुर्घटना में मौत हो जाती है. जानकारों का कहना है कि सड़क निर्माण में तकनीकी गड़बड़ी है. रांची की ओर से आ रहे वाहन की गति घाटी पहुंचते ही अपने आप बढ़ जाती है.

पथ निर्माण विभाग ने घाटी के पास बोर्ड भी लगाया है. गति सीमा 20 किलोमीटर निर्धारित की गयी है. लेकिन यहां अपने आप वाहनों की गति 50-60 हो जाती है. काफी घुमावदार होने के कारण घाटी में संतुलन नहीं बन पाता है. विपरीत दिशा से आ रहे वाहन भी नजर नहीं आते हैं और दुर्घटना हो जाती है.

इसे भी पढ़ें- CoronaUpdate: सिमडेगा से मिले आठ नये कोरोना मरीज, झारखंड में संक्रमितों की संख्या हुई 736

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: