JharkhandRanchi

कॉलेजियम ने झारखंड उच्च न्यायालय के तीन न्यायाशीधों को स्थायी बनाने की सिफारिश की

New Delhi: उच्चतम न्यायालय की कॉलेजियम ने बुधवार को झारखंड उच्च न्यायालय के तीन अतिरिक्त न्यायाधीशों को स्थायी न्यायाधीश नियुक्त करने की सिफारिश की.

Jharkhand Rai

कॉलेजियम ने जिन अतिरिक्त न्यायाधीशों को स्थायी न्यायाधीश बनाने की सिफारिश की है उनमें न्यायमूर्ति राजेश कुमार, न्यायमूर्ति अनुभा रावत चौधरी और न्यायमूर्ति कैलाश देव शामिल हैं.

शीर्ष अदालत के तीन वरिष्ठतम न्यायाधीशों की कॉलेजियम ने रिकार्ड पर उपलब्ध सामग्री पर विचार करने के बाद यह निर्णय लिया. यह कॉलेजियम उच्च न्यायालयों में न्यायाधीशों की नियुक्ति के लिए उनके नामों का चयन और सिफारिश करती है.

इसे भी पढ़ें – #BJP और #AJSU ने Post Alliance के लिए खुला छोड़ा है रास्ता !

Samford

दूसरी ओर, शीर्ष अदालत के पांच न्यायाधीशों की कॉलेजियम उच्चतम न्यायालय के लिए न्यायाशीशों के नामों का चयन और सिफारिश करती है.

न्यायमूर्ति आर भानुमति बनी हैं कॉलेजियम की नयी सदस्य

न्यायमूर्ति रंजन गोगोई के 17 नवंबर को प्रधान न्यायाधीश के पद से सेवानिवृत्त होने के बाद न्यायमूर्ति आर भानुमति पांच सदस्यीय कॉलेजियम की नयी सदस्य बनी हैं. न्यायमूर्ति रूमा पॉल के बाद 13 साल के अंतराल पर कॉलेजियम में शामिल होनेवाली वह महिला न्यायाधीश हैं.

शीर्ष अदालत की नयी कॉलेजियम में प्रधान न्यायाधीश एसए बोबडे, न्यायमूर्ति एनवी रमण, न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा, न्यायमूर्ति आरएफ नरीमन और न्यायमूर्ति भानुमति शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें – #Jharkhand_election जानिये पहले चरण की 13 सीटों पर किस पार्टी और किस उम्मीदवार की क्या है स्थिति

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: