न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कॉग्निजेंट और कर्मचारियों की कर सकती है छंटनी, नये लोगों की नहीं हो रही ज्वाइनिंग

683

New Delhi: अमेरिका की दिग्गज आइटी कंपनी कॉग्निजेंट एक बार फिर कमर्चारयों की छंटनी करेगी. लागत में कटौती करने के उद्देश्य से कंपनी ने यह फैसला लिया है. कंपनी अपने यहां से सैकड़ों कर्मचारियों की छंटनी कर सकती है. इससे पहले मई में भी कंपनी ने अपने मिड लेवल मैनेजरों की बड़े पैमाने पर छंटनी की थी. कंपनी अपने खर्चों को काबू में करने के लिए और भी कई विकल्पों के बारे में सोच रही है.

इसे भी पढ़ें – मोदी सरकार में चीन को व्यापारिक नुकसान पहुंचाने की इच्छाशक्ति नहीं दिखती

कॉग्निजेंट के नये सीईओ ब्रायन हम्फीज कंपनी को फायदे की स्थिति में लाने के लिए पुनर्गठन की प्रक्रिया शुरू कर रहे हैं. कंपनी की लागत में कमी लाने के लिए कई उपाय किये जा रहे हैं. इसके लिए कंपनी आठ साल पूरे कर चुके कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखा सकती है. साथ ही कंपनी वेरियेबल पे कंपोनेंट को भी बढ़ाने पर विचार कर रही है. जिसका अर्थ यह हुआ कि कंपनी यदि मुनाफे में रहती है तो उसका लाभ कमर्चारियों को मिलेगा नहीं तो उन्हें उन्हें उनकी सैलरी का वह हिस्सा नहीं मिलेगा.

ये कटौतियां की गयीं

कंपनी ने पहले ही गैर-जरूरी यात्रा बंद कर दी है और अपने खर्च को सीमित करने के लिए अन्य कदम भी उठाये हैं. इसके अलावा, कॉग्निजेंट ने नये कर्मचारियों को ऑफर लेटर देने और ज्वाइनिंग डेट अलॉट करने के बीच समय बढ़ा दिया है. इस वर्ष की शुरुआत में कॉग्निजेंट ने अपनी राजस्व वृद्धि के अनुमान में कटौती की थी और कहा था कि पिछले दो तिमाहियों में इसके प्रमुख विकास ने राजस्व वृद्धि को पार कर लिया था.

जून 2018 तक कंपनी में 2,88,200 कर्मचारी काम कर रहे थे. उसके बाद साल 2018 के अंत कर उसमें 281600 कर्मचारी रह गये थे. उसके 1,94,700 कर्मचारी भारत में थे.

Related Posts

70-80 रुपये किलो पहुंचा प्याज, स्टॉक की सीमा तय करने पर विचार कर रही है सरकार

प्रमुख प्याज उत्पादक राज्यों में मानसून की भारी बारिश से आपूर्ति प्रभावित हुई है जिसकी वजह से इसकी कीमतों में उछाल आया है.  

इसे भी पढ़ें – कश्मीर मसले पर इमरान खान ने 20 मिनट तक की डोनाल्ड ट्रंप से फोन पर बात

कंपनी ने कहा – हमारे राजस्व में वृद्धि हुई

फेसबुक में कॉग्निजेंट फ्रेशर्स नाम के ग्रुप में कुछ लोग कह रहे हैं कि उन्हें मार्च में ही ऑफर लेटर मिल चुका है, पर उन्हें अभी तक ज्वाइनिंग डेट नहीं मिली है. एक व्यक्ति का कहना है कि ज्वाइनिंग डेट मिलने में देरी की वजह इंतजार कर रहे लोगों की कतार काफी लंबी होना हो सकता है. उसने कहा- जब ज्यादा लोग बिना किसी प्रोजेक्ट के बैठे हों तो यह एकदम स्वाभाविक है कि फ्रेशर्स की ज्वाइनिंग में देर होगी.

कॉग्निजेंट के प्रवक्ता ने कहा कि हम मार्केट की किसी भी आशंकाओं पर बात नहीं कर सकते. हमारे लिए यह महत्वपूर्ण है कि कॉग्निजेंट की दूसरे तिमाही की रिपोर्ट में राजस्व में वृद्धि हुई है. कंपनी ने कहा कि फ्रेशर्स को जून से लेना शुरू किया गया है.

इसे भी पढ़ें – कश्मीर मसले पर UNSC की बैठक में पाकिस्तान के साथ सिर्फ चीन, रूस ने निभायी भारत से दोस्ती

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: