न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रेलवे की वजह से बाधित रही टीवीएनएल की कोयला आपूर्ति, चार दिनों से बिजली उत्पादन है ठप्प

सीसीएल का बकाया ज्यादा होने के कारण पैदा हुई स्थिति

248

Ranchi: रेलवे की वजह से टीवीएनएल का बिजली उत्पा्दन पिछले चार दिनों से बंद है. मिली जानकारी के अनुसार टीवीएनएल के लिए कोयला की ट्रांसपोर्टिंग रेलवे से होती है. लेकिन कुछ दिनों पहले से रेलवे ने टीवीएनएल को कोयला पहुंचाना बंद कर दिया है. बताया जाता है कि रेलवे की वेबसाइट में टीवीएनएल को कोयला आपूर्ति सूचीबद्ध होती थी, लेकिन टीवीएनएल के नाम का कोयला यहां तक नहीं पहुंचता था. इस मामले में धनबाद रेल डिविजन के जिम्मेदार अधिकारी सीनियर डिविजनल ऑपरेशन मैनेजर से न्यूज विंग ने संपर्क किया, तो उन्होंने इस विषय की कोई भी जानकारी देने से इनकार कर दिया.

इसे भी पढ़ें-आंदोलन के नाम शिक्षकों ने मनाया वीकेंड, कई विभागों से प्रोफेसर नदारद

सोमवार से एक यूनिट से शुरु हो जाएगी बिजली उत्पादन

तेनुघाट विद्युत निगम लिमिटेड की एक यूनिट से बिजली उत्पादन सोमवार से शुरू हो जायेगी. टीववीएनएल के जनरल मैनेजर कुलदीप चौधरी ने बताया कि एक यूनिट को चालू करने के लिए कोयले की किल्लित दूर कर ली गई है. 24 घंटे में सीसीएल से एक रैक कोयला मिल जायेगा. उसके बाद एक यूनिट से बिजली का उत्पादन शुरू हो जायेगी.

इसे भी पढ़ें-इग्नू के तकनीकी कोर्स में एआईसीटीई मान्यता जरूरी नहीं : सुप्रीम कोर्ट

फिलहाल दोनों यूनिट पिछले चार दिनों से बंद है. टीवीएनएल की ये यूनिट कोयले की नियमित आपूर्ति नहीं होने की वजह से बंद हैं. अप्रैल 2018 से कोयले के अभाव में एक यूनिट बंद है. सीसीएल टीवीएनएल को जरूरत की एक रैक कोयला आपूर्ति करता है. एक यूनिट चलाने के लिए टीवीएनएल को हर रोज एक रैक कोयले की खपत भी होती है.

इसे भी पढ़ें-बंद नहीं होगी, बदलेगी एचईसी की तस्वीरः एटॉमिक एनर्जी डिपार्टमेंट करेगा टेकओवर !

टीवीएनएल को क्यों बंद हुई कोयले की आपूर्ति

मिली जानकारी के अनुसार टीवीएनएल हर रोज खपत होने वाले कोयले के लिए सीसीएल को 90 लाख से 1 करोड रुपये भुगतान करता है. रेलवे ट्रांसपोर्टिंग के लिए टीवीएनएल से 10 लाख रूपये प्रतिदिन ले‍ता है. सीसीएल का बकाया ज्यादा होने के कारण यह स्थिति पैदा हुई है.

इसे भी पढ़ेंःमीडिया पर संपूर्ण नियंत्रण का इरादा अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा

आर्थिक संकट की ओर टीवीएनएल

टीवीएनएल का दूसरा यूनिट पिछले चा‍र महीने से बंद पड़ा है. उसे चलाने के लिए उसके पास पर्याप्त पैसे भी नहीं है. झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड के पास अभी तक 3700 करोड़ रूपये बिजली बिल बकाया है. टीवीएनएल का यह बकाया हर महीने बढ़ता जा रहा है. टीवीएनएल के एक यूनिट से मिलने वाली बिजली के लिए जेबीवीएनएल हर महीने औसतन 40 करोड़ रूपये का भुगतान करता है. जबकि टीवीएनएल को एक यूनिट को चलाने के लिए 45 से 50 करोड़ रूपये तक खर्च करना पड़ता है. जेबीवीएनएल से हर महीने भुगतान के बावजूद टीवीएनएल का बकाया बढ़ता जा रहा है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: