BusinessNational

बिजली कंपनियों के #Coal_Allocation में अप्रैल-नवंबर में  23 फीसदी की गिरावट आयी

NewDelhi :  सरकारी कंपनी कोल इंडिया की विशेष ई-नीलामी के जरिये बिजली क्षेत्र को आवंटित होने वाले कोयले में गिरावट आयी है.  कोल इंडिया ने चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-नवंबर के दौरान 1.69 करोड़ टन कोयला आवंटित किया. एक साल पहले की इसी अवधि में तुलना में इसमें 22.6 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गयी. कोल इंडिया ने 2018-19 के अप्रैल-नवंबर में बिजली क्षेत्र को 2.19 करोड़ टन कोयला आवंटित किया था.

इसे भी पढ़ें : शिक्षा,रेलवे के बाद अब स्वास्थ्य सेवाओं के निजीकरण की तैयारी में मोदी सरकार

कोल इंडिया 2024 तक एक अरब टन कोयले का उत्पादन करेगी

कोयला मंत्रालय की ओर से मंत्रिमंडल के लिये तैयार की गयी हालिया रिपोर्ट के अनुसार इस योजना के तहत, नवबंर 2019 में कोयला आवंटन बढ़कर 40.5 लाख टन हो गया,  नवंबर 2018, में बिजली क्षेत्र को 15.3 लाख टन कोयला आवंटित किया था.
कोल इंडिया ने इससे पहले कहा था कि 2019-20 के लिए 66 करोड़ टन कोयला उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है.

इसमें से 10 प्रतिशत की पेशकश (आवंटन) ई-नीलामी के जरिये करने की योजना है. जिसमें से 50 प्रतिशत (3.3 करोड़ टन) कोयले का आवंटन विशेष ई-नीलामी के जरिये करने का इरादा है. कोल इंडिया ने कहा था कि वह अगले वित्त वर्ष में 75 करोड़ टन कोयला का उत्पादन करेगी. कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि कोल इंडिया वित्त वर्ष 2024 तक एक अरब टन कोयले का उत्पादन करेगी.

इसे भी पढ़ें : #West_Bengal_Legislative_Assembly_Election :  ममता बनर्जी को मात देने और मिशन 250 के लिए अमित शाह सीख रहे हैं बांग्ला

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: