JamshedpurJharkhand

जमशेदपुर-सिदगोड़ा सूर्यमंदिर में लगता था सीएम का दरबार, रघुवर दास की हार के दूसरे ही दिन JNAC ने काट दी बिजली   

विज्ञापन

Abinash mishra

Jamshedpur : तीन माह के बिजली बिल के भुगतान को लेकर झारखंड नोटीफाइड एरिया कमेटी (जेएनएसी) ने सिदगोड़ा सूर्यमंदिर और उसके परिसर में बने बैंक्वेट हॉल (सोन मंडप) की बिजली काट दी है. जेएनएसी ने यह कार्रवाई  बीते मंगलवार को की जिसके एक दिन पहले चुनाव परिणाम घोषित हुए थे. परिणाम में पूर्वी जमशेदपुर से रघुवर दास सरयू राय से 15 हजार से अधिक वोटों से हार गये.

1,50,000 रुपए का बिजली बिल बकाया है

मंगलवार को रघुवर दास हार की समीक्षा के लिए सूर्यमंदिर पहुंचे थे. बत्ती गुल देखकर केयर टेकर से लाइट कटने का कारण पूछा तो कहा गया कि जेएनएसी ने बिजली काट दी है क्योंकि तीन माह का करीब 1,50,000 रुपए का बिजली बिल बकाया है. लिहाजा रघुवर दास को बिना बिजली के ही मीटिंग लेनी पड़ी. मंदिर परिसर में बने बैंक्वेट हॉल में शादी-ब्याह की बुकिंग होती है.

advt

जानकारी के अनुसार बुकिंग से होने वाली कमाई की राशि एक ट्रस्ट को जाती है. जिसमें रघुवर दास के परिवार और कई रिश्तेदार बतौर सदस्य शामिल बताये जाते हैं.  जेएनएसी को बिजली बिल का भुगतान इसी ट्रस्ट के जरिए किया जाता है

इसे भी पढ़ें :भाजपा को हटा कर पूंजीपतियों और कॉर्पोरेट मानसिकता वाली सरकार से झारखंड की जनता ने मुक्ति पायीः नरेंद्र सिंह

रघुवर दास अपना दरबार सालों से लगाते आ रहे है

सूर्यमंदिरपरिसर में बने बैंक्वेट हॉल में रघुवर दास अपना दरबार सालों से लगाते आ रहे है.  मंदिर परिसर में ही दो माले का बैंक्वेट हॉल है और उसके आगे लंबा चौड़ा लॉन भी है. सोन मंडप के पहले माले पर उनका दरबार लगना काफी आम बात है. मुख्यमंत्री का कार्यकाल हो या फिर उससे पहले का समय, रघुवर दास की हर रणनीति पर अंतिम मुहर सूर्यमंदिर में ही लगती रही है.

सोन मंडप में शादी-ब्याह और दूसरे आयोजनों की बुकिंग भी ली जाती है.  लोगों का कहना है कि रघुवर दास के सीएम कार्यकाल के दौरान उनके रसूख के चलते बिजली काटने की हिम्मत जेएनएसी नहीं कर सका,  लेकिन रघुवर दास की हार के बाद जेएनएसी तुरंत हरकत में आया और बिजली काट दी.

adv

इसे भी पढ़ें : जमशेदपुर : रघुवर दास की हार के बाद भाजपा जिला कार्यालय खाली करने की मांग ने पकड़ा जोर  

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button