न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मुख्यमंत्री जनसंवाद आचार संहिता का उल्लंघन, बंद हो ड्रामा, चुनाव आयोग ले संज्ञान : हेमंत सोरेन

ये घर के चौकीदार नहीं हैं, घर में घुस-घुसकर मारेंगे

629

Ranchi : लोकसभा चुनाव को लेकर झामुमो के प्रदेश कार्य समिति की बैठक सोहराय भवन में हुई. बैठक के बाद झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन पत्रकारों से मुखातिब होते हुए कहा कि मुख्यमंत्री जनसंवाद पूरी तरह से आचार संहिता का उल्लंघन है.

mi banner add

चुनाव आयोग को इसपर कार्रवाई करनी चाहिए, इसपर संज्ञान लेनी चाहिए. जनसंवाद जैसे ड्रामे को बंद कराना चाहिए. साथ ही कहा कि हम गठबंधन करें तो, उनको तकलीफ और वो गठबंधन करें तो, तालियां बजायी जाये.

इस राज्य में गठबंधन के बदौलत भाजपा फिर से सत्ता में आने का प्रयास कर रही है. नतीजा ये हो रहा है कि वो सीटिंग सीट देकर भी अपने सहयोगियों को भागने नहीं देना चाह रही है.

स्थिति ये है कि देश में अगर किसी की सबसे ज्यादा गठबंधन है तो भाजपा की गठबंधन है. साथ ही हेमंत सोरेन ने बताया कि 24 मार्च तक गठबंधन के सभी सीटों का ऐलान हो जायेगा.

बंगाल और उड़ीसा में भी गठबंधन कर झामुमो उतारेगी उम्मीदवार. बैठक में गठबंधन दलों के जीत को लेकर पार्टी के जिलाध्यक्ष और सचिवों को टास्क दिये गये हैं.

इसे भी पढ़ें : गढ़वा : भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद, एक गिरफ्तार, दो की तलाश तेज 

जयंत सिन्हा को चुनाव लड़ने से रोका जाना चाहिए

हेमंत सोरेन ने हजारीबाग के भाजपा सांसद और केंद्रीय राज्य मंत्री जयंत सिन्हा के बारे में कहा कि उनपर आचार संहिता के तहत एफआइआर दर्ज होनी चाहिए. उन्हें चुनाव लड़ने से रोका भी जाना चाहिए.

जयंत सिन्हा ने आइआइएम के दीक्षांत समारोह के दौरान दिये गये भाषण को आचार संहिता का उल्लंघन बताया है. उन्होंने कहा कि जिस तरह से कोड ऑफ कंडक्ट का उल्लंघन किया गया है.

Related Posts

पलामू : डायरिया से बच्चे की मौत, माता-पिता व भाई गंभीर, गांव में दर्जन भर लोग पीड़ित

स्वास्थ्य विभाग के डायरिया नियंत्रण की खुली पोल, आनन-फानन में कुछ लोगों को एंबुलेंस से भेजा अस्पताल

आइआइएम में जाकर वोट मांगे गये हैं. निर्वाचन आयोग से अपील भी किया कि आयोग को पक्षपात पर भी नजर रखना चाहिए. पदाधिकारियों के पक्षपात के शिकायत भी हमें सुनने को मिल रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : हर मोर्चे पर सरकार को घेरने वाले सुदेश महतो ने आखिर क्यों थामा फिर से बीजेपी का हाथ? 

ये घर के चौकीदार नहीं हैं, घर में घुस-घुसकर मारेंगे

हेमंत सोरने ने “मैं भी चौकीदार” वाले कैंपेन पर कहा कि ये घर के चौकीदार नहीं हैं, चुनाव होने दीजिए ये घर में घुस-घुसकर मारेंगे. अब वे पाकिस्तान नहीं आपके घर में घुसने जा रहे हैं, तैयारी कर लीजिये.

उन्होंने कहा कि चौकीदार लगाने के लिए नहीं बल्कि चौकीदारों को समाप्‍त करने की होड़ लगी है. प्रत्याशियों के सवाल पर हेमंत सारेन ने कहा कि पहले सीट तो आने दीजिये उसके बाद ही उम्मीदवारों के नाम की घोषणा होगी.

इसे भी पढ़ें : नौकरी के अंतिम दिन नगर निगम के टाउन प्लानर उदय सहाय ने 30 से अधिक भवन प्लान पर किया डिजिटल सिग्नेचर

आजसू की राजनीति कॉरपोरेट पॉलिटिक्स है

आजसू के सवाल पर हेमंत सोरेन ने कहा कि आजसू की राजनीति कॉरपोरेट पॉलिटिक्स है. आजसू के बारे में मैं बहुत ज्यादा बात नहीं रखना चाहता. अब तो जनता की अदालत में फैसला होना है, जनता ही तय करेगी.

झारखंड में तो भाजपा फंस चुकी है, अब इस जाल से वो बाहर नहीं निकल पायेगी. रविवार को ही भाजपा और आजसू ने संयुक्त से पीसी कर साथ चुनाव लड़ने का औपचारिक ऐलान किया है. आजसू गिरिडीह सीट से चुनाव लड़ेगी.

इसे भी पढ़ें : दांव पर आजसू सुप्रीमो सुदेश की प्रतिष्ठा, लोकसभा चुनाव तय करेगा आजसू का भविष्य

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: