न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पारा शिक्षकों को गुंडा कह रहे सीएम, विस में अपशब्‍द कहनेवाले को क्‍या कहें: जेवीएम

134

Ranchi: झाविमो के केन्द्रीय प्रवक्ता योगेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा है कि राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास द्वारा पारा शिक्षकों को गुंडा कहना कहीं से भी उचित नहीं है. यह अशोभनीय व निंदनीय है. सीएम अगर पारा शिक्षकों को गुंडा बता रहे हैं तो विधानसभा के अंदर अपशब्दों का प्रयोग करने वाले को क्या कहना चाहिए, उन्हें लगे हाथ इसको भी बता ही देना चाहिए. कितनी हास्यास्पद बात है कि जो वास्तव में गुंडागर्दी कर रहे हैं, उसे गुंडा कहने की हिम्मत सरकार में नहीं है, लेकिन राज्य के नौजवान व महिलाएं जो अपने हक-अधिकार को लेकर आंदोलन कर रहे हैं उन्हें गुंडा कहा जा रहा है.

अपने ही विधायकों व सांसदों से सीएम रायशुमारी कर लें

silk_park

सरकार के इशारे पर पुलिस लाठियों व आश्रू गैस से पारा शिक्षकों पर हमला कर दे और निहत्थे पारा शिक्षक अपने बचाव में कुछ करे तो उन्हें गुंडा शब्द से नवाजा जा रहा है. यानी वे चुपचाप लाठियां खाते रहें और सरकार का भाषण सुनते रहें तब तो ठीक है. पारा शिक्षक मामले में सीएम भाजपा व सहयोगी दल के विधायकों-सांसदों से ही रायशुमारी कर लें उन्हें पता चल जायेगा कि सरकार व पुलिस ने गलत किया या सही. रघुवर सरकार हिटलरशाही पर उतर चुकी है. सरकार की हिटलरशाही से त्रस्त होकर बीजेपी के विधायक तो यहां तक कह रहे हैं कि झारखंड में थोपा हुआ मुख्यमंत्री है, जो हमारी बात नहीं सुनता. विधायक आगे रोना रोते हैं कि हम भाजपा में मंडल अध्यक्ष तक नहीं बना सकते हैं, वह भी ऊपर से ही थोपा जाता है. रघुवर सरकार सत्ता के नशे में पूरी तरह चूर है. 2019 में इनका सारा घमंड जनता उतार देगी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: