JharkhandRanchiSports

कराटे खिलाड़ी विमला मुंडा की खराब आर्थिक हालत पर सीएम गंभीर, मदद पहुंचाने का निर्देश

  • खेल नीति-2020 को जल्द लायेगी सरकार, सोमवार को सीएम करेंगे खिलाड़ियों के डाटाबेस पोर्टल और खेल निदेशालय की वेबसाइट का लोकार्पण

Ranchi  :  राज्य की एक बेहतरीन कराटे खिलाड़ी रही विमला मुंडा की खराब आर्थिक स्थिति को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने काफी गंभीरता से लिया है. विमला मुंडा कराटे में गोल्ड मेडलिस्ट हैं.

Jharkhand Rai

सीएम को जैसे ही जानकारी मिली, तो उन्होंने रांची डीसी छवि रंजन को खिलाड़ी की स्थिति पर अविलंब संज्ञान लेने और खेल सचिव से समन्वय स्थापित कर उसे हर संभव मदद पहुंचाने का निर्देश दिया है.

बता दें कि मुख्यमंत्री को जानकारी दी गयी थी कि रांची निवासी विमला मुंडा ने कराटे में कई मेडल और सर्टिफिकेट प्राप्त किये हैं. लेकिन खिलाड़ी की आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण वह किसी प्रकार वह अपने परिवार का भरण पोषण कर रही है.

इसे भी पढ़ें – पूजा में सफाई व्यवस्था दुरुस्त रहे, इसके लिए खुद उपनगर आयुक्त रात में कर रहे निरीक्षण 

Samford

सीएम करेंगे खिलाड़ियों के डाटाबेस पोर्टल का लोकार्पण

इससे पहले मुख्यमंत्री ने मीडिया को एक बयान में बताया है कि झारखंड के खिलाड़ियों के लिए सरकार खेल नीति लाने जा रही है. इसके क्रियान्वित होने पर राज्य के खिलाड़ियों का भविष्य संवरेगा. खिलाड़ियों के विकास की दिशा में हेमंत सरकार सोमवार को बड़ा कदम उठायेगी.

दरअसल सीएम राज्य के खिलाड़ियों के डाटाबेस पोर्टल और खेल निदेशालय की वेबसाइट का लोकार्पण करेंगे.

इसे भी पढ़ें – नवरात्रि पूजन में 25 लोगों को शामिल होने की अनुमति देने पर विचार करे सरकार : सुप्रियो

खिलाड़ियों व कोचों का मंगाया जा रहा बायोडाटा

खेल विभाग के मुताबिक राज्य के सभी जिलों से खिलाड़ियों व कोचों के डाटा मंगाने की प्रक्रिया पहले से चल रही थी. तकरीबन सभी जिलों से खिलाड़ियों, कोचों का डाटा आ चुका है. इन डाटों को खिलाड़ियों के पोर्टल पर रखा जाएगा.

इससे पहले बीते 9 अक्टूबर को जिला खेल पदाधिकारियों (डीएसओ) नियुक्ति पत्र देने के दौरान सीएम ने कहा था कि राज्य सरकार खिलाड़ियों के लिए पोर्टल दुर्गा पूजा से पहले लांच करने की योजना बना रही है, जहां मौजूदा खिलाड़ी, प्रशिक्षक रेफरी, सेवानिवृत्त खिलाड़ी अपना पूर्ण विवरण दर्ज करा सकेंगे.

वहीं खेल नीति–2020 को लेकर सीएम ने पहले ही कह चुके हैं कि नीति में राज्य में खेले जाने वाले खेल एवं खिलाडिय़ों को प्राथमिकता देते हुए प्रतिभा की पहचान कर बेहतर प्रशिक्षण देने की व्यवस्था होनी चाहिए, ताकि उन्हें राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेलों के अनुरूप तैयार किया जा सके.

इसे भी पढ़ें – गढ़वा-पलामू के किसानों को FCI का नहीं मिल रहा लाभ, बिचौलियों का खतरा बढ़ा: मिथिलेश

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: