न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

महागठबंधन के खिलाफ गरजे सीएम रघुवर, कहा : एक शेर का मुकाबला सियार का समूह नहीं कर सकता

भ्रष्टाचारियों का है गठबंधन, भारत कांग्रेस की जागीर नहीं, पाकिस्तान परस्त कांग्रेस को जवाब दे जनता

201

Kodarma : मुख्यमंत्री रघुवर दास ने महागठबंधन के खिलाफ आक्रमक रूख अख्त्यिार कर लिया है. कहा है कि महागठबंधन भ्रष्टाचारियों का गठबंधन है. यह गठबंधन सिर्फ नरेंद्र मोदी को हटाने के लिए है. इन्हें भ्रष्टाचार में महारत हासिल है.

इन्‍हें डर है कि अगर नरेंद्र मोदी सत्ता में आयें तो, इनका स्थान जेल में होगा. एक शेर का मुकाबला सियार का समूह नहीं कर सकता. सीएम मंगलवार को कोडरमा में आयोजित जनसभा को संबोधित कर रहे थे.

उन्होंने कहा कि कोडरमा क्षेत्र के निवासी पाकिस्तान परस्त कांग्रेस को जवाब दें. सरकार आती जाती रहेगी, लेकिन देश सर्वोपरि है. जो जयचंद और मीर जाफर सेना के शौर्य को ललकारते हैं और आतंकियों का समर्थन करने वाली पार्टियों को आप बैलट के माध्यम से करारा जवाब दें.

hosp3

इसे भी पढ़ें :रांची लोकसभा सीटः संजय सेठ, सुबोधकांत और रामटहल ने भरा नामांकन

बेरोजगार हमारे लिये हैं अमीर

राजनीतिक दल के लोग भाजपा पर यह आरोप लगाते हैं कि भाजपा अमीरों को मदद पहुंचाने वाली पार्टी है. मैं कहता हूं कि  बेरोजगार हमारे लिए अमीर हैं, बिना घर वाले हमारे लिए अमीर हैं, बिना शौचालय वाले हमारे लिए अमीर हैं, किसान हमारे लिए अमीर हैं और इन अमीरों के उत्थान के लिए हमने योजनाओं को धरातल पर उतारा.

क्या ऐसे लोगों को उनका हक दिलाना गलत है. क्यों नहीं दशकों तक ऐसे अमीरों की सुध पूर्व की सरकारों द्वारा ली गयी. वर्षों से कांग्रेस पार्टी गरीबी हटाओ की बात करती है, गरीब न्याय की बात करती है. लेकिन इसके उन्मूलन के लिए क्या किया. यह कोई विधायक, पार्षद या मेयर का चुनाव नहीं. बल्कि देश की तकदीर बदलने वाला चुनाव है.

इसे भी पढ़ें : हजारीबाग लोकसभा सीट से भाकपा के भुनेश्वर मेहता ने भरा पर्चा

हिम्मत नहीं आदिवासी क्षेत्र से चुनाव लड़ें

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य की 5 सीटें आरक्षित हैं. लेकिन मुख्यमंत्री रहे एक प्रत्याशी सामान्य सीट यानी कोडरमा से चुनाव लड़ रहे हैं. उन्हें हिम्मत नहीं है कि आदिवासी क्षेत्र में जाकर चुनाव लड़े. क्योंकि आदिवासी जनता ऐसे लोगों को पहचान चुकी है, जो आदिवासी विकास की बात तो करते हैं, लेकिन इसे धरातल पर नहीं उतारते.

इन्हें सिर्फ एक दूसरे से लड़ाना आता है. जैसा कि पूर्व में इनके द्वारा डोमिसाइल के दौरान किया गया. अगर हिम्मत है तो आदिवासी क्षेत्र से चुनाव लड़ें, फिर पता चलता कि आदिवासी हित में इन्होंने कितना काम किया है.

इसे भी पढ़ें कोडरमा से अन्नपूर्णा ने भरा पर्चा, कहा-चुनावी मैदान में नहीं है संघर्ष की चिंता 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: