न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बीजेपी की संकल्प सभा में नहीं पहुंचे सीएम, सीएम-सांसद का मनमुटाव आया सामने

277

Chatra : मुख्यमंत्री रघुवर दास और स्थानीय सांसद सुनील सिंह के बीच चल रहा अंदरूनी कलह अब एक बार फिर सार्वजनिक पटल पर आ गया. सांसद के लोकसभा क्षेत्र में शहर के इंदुमती टिबड़ेवाल सरस्वती विद्या मंदिर में आयोजित जिला स्तरीय संकल्प सभा से खुद को दूर रख सुबे के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने एक बार फिर विवादों को नया जन्म दे दिया है.

इसे भी पढ़ें – वाहन चेकिंग के दौरान पुलिस ने तीन अपराधियों को देसी पिस्टल और कारतूस के साथ किया गिरफ्तार

संकल्प सभा में भी मुख्यमंत्री का बाट जोहते रह गए

hosp3

मुख्यमंत्री के इस निर्णय से ना सिर्फ जिले के कार्यकर्ताओं को निराशा हाथ लगी है बल्कि विवादों को नया रूप मिल गया है. यही कारण है कि इटखोरी राजकीय महोत्सव की तरह भाजपा कार्यकर्ता पार्टी के संकल्प सभा में भी मुख्यमंत्री का बाट जोहते रह गए. जिससे कार्यक्रम के दौरान कार्यकर्ताओं में निराशा देखने को मिली. हालांकि मुख्यमंत्री के अनुपस्थिति में पर्यटन मंत्री अमर बाउरी और लोकसभा प्रभारी सह बोकारो विधायक बिरंचि नारायण ने मोर्चा संभाला और कार्यकर्ताओं को संबोधित किया.

इसे भी पढ़ें – विजय संकल्प सभा : केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने कहा- महागठबंधन नहीं, देश में बना महा ठगबंधन, बचके…

मुख्यमंत्री और सांसद के बीच चल रहे विवाद को विरोधियों की साजिश

इस दौरान चर्चा का विषय बन चुके सीएम-सांसद विवाद का पटाक्षेप करते हुए पर्यटन मंत्री ने मुख्यमंत्री और सांसद के बीच चल रहे विवाद को विरोधियों की साजिश करार दिया. उन्होंने कहा कि यह चलती फिरती खबरें हैं. चर्चा को मसालेदार बनाने के लिए लोग इस तरह की बात कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि ना तो सीएम के अनुसार संगठन का संचालन होता है और ना ही सांसद के अनुसार पार्टी और कार्यकर्ता सर्वोपरि है. ऐसे में केंद्रीय नेतृत्व कार्यकर्ताओं के उत्साहवर्धन और सहयोग के लिए जिसको जहां निर्देशित करेगा और भेजेगा लोगों को जाना पड़ेगा. किसी के चाहने नहीं चाहने से संगठन नहीं चलता.

इसे भी पढ़ें – कठिन है डगर अर्जन मुंडा की, इन चुनौतियों से जूझना होगा

शेष बचे तीनों लोकसभा क्षेत्र के प्रत्याशियों की घोषणा जल्‍द 

उन्होंने कार्यक्रम से सीएम के अनुपस्थिति पर बचाव करते हुए कहा कि मौसम खराब होने के कारण सीएम नहीं आ सके. वे निरंतर चतरा आते हैं और कार्यकर्ताओं व आम लोगों की जरूरत के अनुसार बुलावे पर आते भी रहेंगे. कार्यक्रम के दौरान मंत्री और लोकसभा प्रत्याशी ने कार्यकर्ताओं में जोश भरते हुए चुनाव में एकजुटता का परिचय देते हुए सारे विवादों को भूलकर संगठन हित में काम करने और पार्टी प्रत्याशी के माथे पर जीत का सेहरा बांध कर केंद्र में मजबूत और सशक्त सरकार बनाने में अपनी भूमिका अदा करने की अपील. मंत्री ने पत्रकारों द्वारा स्थानीय प्रत्याशी को लेकर पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए कहा कि पार्टी पर निर्भर करता है उसके लिए काम करेंगे. उन्होंने कहा कि पार्टी जल्द ही शेष बचे तीनों लोकसभा क्षेत्र के प्रत्याशियों के नाम की घोषणा करेगी.

इसे भी पढ़ें –नए सीएस के लिए कार्मिक ने सीएमओ को भेजा प्रस्ताव, वरीयता के आधार पर तीन नाम निर्वाचन आयोग को भेजे…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: