JharkhandRanchiTOP SLIDER

सीएम ने दी ‘तरक्की’ की दावत, बोले- फूड प्रोसेसिंग करना चाहते हैं, तो आगे आयें, सरकार करेगी मदद

  • हेमंत ने अधिकारियों को जल्द से जल्द साइकिल मैन्युफैक्चरिंग यूनिट की भी स्थापना करने का दिया निर्देश

Ranchi  :  मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने राज्य में उद्योगों के विकास के लिए इनोवेटिव चीजों को बढ़ावा देने पर जोर दिया है. इसके लिए उन्होंने इंडस्ट्री प्रोमोशन की टीम गठित करने का निर्देश दिया है. उन्होंने कहा है कि इससे देश-विदेश में उद्योग के क्षेत्र में नये उद्यमियों को आकर्षित किया जा सकेगा.

मुख्यमंत्री ने यह निर्देश शुक्रवार को उद्योग विभाग की समीक्षा बैठक में दिया. बैठक में मुख्य सचिव सुखदेव भगत और उद्योग सचिव पूजा सिंघल सहित कई अधिकारी उपस्थित थे. इस दौरान हेमंत ने अधिकारियों को यह भी निर्देश दिया कि राज्य में साइकिल मैन्युफैक्चरिंग यूनिट की जल्द से जल्द स्थापना करें, ताकि इस दिशा में जो भी उद्यमी उद्योग लगाना चाहते हैं, उन्हें सरकार की तरफ से सभी तरह की सुविधाएं मुहैया करायी जा सकें.

ram janam hospital
Catalyst IAS

इसे भी पढ़ें- असम की महिलाओं को आजीविका के गुर सिखाने जायेंगी झारखंड की महिलाएं

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

रोजगारोन्मुखी उद्योगों की स्थापना करना सरकार की प्राथमिकता

हेमंत सोरेन ने कहा कि राज्य में रोजगारोन्मुखी उद्योगों की स्थापना करना उनकी सरकार की प्राथमिकता है. उद्योगों की स्थापना से अधिक से अधिक रोजगार सृजन के साथ राजस्व की भी प्राप्ति हो सकेगी. राज्य में एक नये कल्चर में उद्योगों की स्थापना हो, इस दिशा में प्रयास करने की जरूरत है.

फूड प्रोसेसिंग के क्षेत्र को व्यापक बनाने पर दिया जोर

उन्होंने फूड प्रोसेसिंग के क्षेत्र को और अधिक व्यापक बनाने की बात की. उन्होंने कहा, “अभी तक हम सिर्फ टमाटर से कैचप और हरी मिर्च से चिली सॉस की प्रोसेसिंग ही जानते हैं. जबकि, कई ऐसी फसलें है, जिनकी हम फूड प्रोसेसिंग कर सकते हैं. इसके लिए हमें किसानों को बढ़ावा देना चाहिए. अगर किसी उत्पाद की फूड प्रोसेसिंग की जा सकती है, तो इस क्षेत्र में आगे कोई भी आ सकता है. सरकार उनका पूर्ण सहयोग करेगी.” उन्होंने फूड प्रोसेसिंग के साथ इसकी मार्केटिंग को बढ़ावा देने पर भी बल दिया.

लोगों के बनाये उत्पादों को बाजार उपलब्ध करायें

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में लघु एवं कुटीर उद्योगों को बढ़ावा दिया जाये, ताकि इस क्षेत्र में कार्य कर रहे लोगों के जीवन स्तर में व्यापक बदलाव आये. लोगों द्वारा बनाये गये उत्पादों को एक बाजार मिले, इस दिशा में कार्य करें.

इसे भी पढ़ें- सरकारी नौकरी करना चाहते हैं तो रेलवे में 1000 से पोस्ट पर अप्लाई करने का है सुनहरा मौका

कुम्हारों और शिल्पकारों के उत्पादों को भी बाजार दें

बैठक में हेमंत ने माटी कला बोर्ड के कार्यों की भी समीक्षा की. उन्होंने कहा कि कुम्हार एवं शिल्पकारों द्वारा बनाये गये उत्पादों को बाजार मिले, इसके लिए बोर्ड सुनिश्चित करने की दिशा में सरकार काम करे. उन्होंने कहा कि आज मिट्टी के बर्तनों का प्रचलन काफी बढ़ गया है. इसे और अधिक बढ़ावा देने की जरूरत है. यह स्वास्थ्य के लिए अच्छा है ही, साथ ही पर्यावरण की दृष्टि से भी काफी बेहतर है.

रांची में फार्मा और देवघर में प्लास्टिक पार्क का हो रहा निर्माण

बैठक में उद्योग सचिव ने उद्योग विभाग की उपलब्धियों एवं कार्य योजना पर विस्तार से प्रकाश डाला. उन्होंने बताया कि रांची के चान्हो स्थित बरहे में फार्मा पार्क का निर्माण किया जाना है. इसी तरह गोपालगंज,  धनबाद में लेदर पार्क,  नामकुम में आईटी टावर का निर्माण किया जा रहा है. वहीं, देवघर के देवीपुर औद्योगिक क्षेत्र में 67.33 करोड़ रुपये की लागत से प्लास्टिक पार्क का निर्माण किया जा रहा है. प्लास्टिक पार्क की स्थापना हेतु कुल 93.09  एकड़ भूमि आरक्षित की गयी हैं. पार्क में कुल 111 प्लॉट बनाये गये हैं, जिन्हें 83 माइक्रो,14 स्मॉल और पांच वृहत औद्योगिक इकाइयां हेतु आवंटित किया जायेगा.

इसे भी पढ़ें- रेलवे में दो लाख 40 हजार पदों पर बहाली के लिए परीक्षाएं 15 दिसंबर से

Related Articles

Back to top button