JharkhandLead NewsRanchi

देश के सर्वोच्च पद पर जनजाति समाज की भागीदारी तय करने को CM हेमंत सोरेन भी बनें हिस्साः समीर उरांव

Ranchi : राज्यसभा सांसद और भाजपा एसटी मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष समीर उरांव ने द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति पद के लिए प्रत्याशी बनाये जाने का जोरदार स्वागत किया है. साथ ही झारखंड के सभी दलों के नेताओं से द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति बनाये जाने में सहयोग देने का भी आग्रह किया है. भाजपा प्रदेश कार्यालय में शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा कि पहली बार आजाद भारत में जनजाति समाज की एक महिला को देश के सर्वोच्च संवैधानिक पद पर आसीन होने का अवसर बन रहा है.

झारखंड की पूर्व राज्यपाल रहीं द्रौपदी मुर्मू का इस पद के लिए पीएम मोदी और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा द्वारा नाम तय किया जाना ऐतिहासिक फैसला रहा है. केवल झारखंड ही नहीं, पूरे देश का जनजाति समाज, संगठन, समितियों से जुड़े लोग इससे गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं. समीर उरांव ने सीएम हेमंत सोरेन सहित राज्य के सभी दलों से द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति बनाये जाने में सहयोग मांगा. उम्मीद जताते हुए कहा कि खुद जनजाति समाज से आनेवाले सीएम और झामुमो प्रमुख शिबू सोरेन ऐन मौके पर द्रौपदी मुर्मू को ही समर्थन देंगे. इस दौरान पूर्व विधायक और एसटी मोर्चा (प्रदेश) के शिवशंकर उरांव, राम कुमार पाहन के अलावे बिंदेश्वर उरांव और अन्य भी मौजूद थे.

इसे भी पढे़ं:  सुबह कुछ खाने के एक घंटे पहले दो ग्लास गरम पानी पीयें, जानिये सेहत के बारे में और क्या बता रही हैं डायटिशियन पिंकी

21 जुलाई को गांव-गांव में आनंदोत्सव

समीर उरांव ने कहा कि 18 जुलाई को राष्ट्रपति पद के लिए वोटिंग होगी. 21 जुलाई को मतगणना होगी. उन्हें आशा है कि रिजल्ट सकारात्मक होगा. इस दिन गांव-गांव में जनजाति समाज के लोग पारंपरिक वाद्य यंत्रों, वेश भूषा, नृत्य संगीत के जरिये आनंदोत्सव मनायेंगे. 24 को द्रौपदी के शपथ ग्रहण के बाद गांव गांव में सरकारी भवनों, पंचायत भवनों में द्रौपदी के शपथ ग्रहण की फोटो विविध कार्यक्रमों के बाद लगाये जाने का कार्यक्रम होगा. 12 जुलाई को बाबा नगरी, देवघर में पीएम नरेंद्र मोदी आ रहे हैं. जनजाति समाज का मान बढ़ाने के उनके प्रयासों को देखते जगह जगह पोस्टरों के जरिये उनका आभार व्यक्त किया जायेगा. सोशल मीडिया पर भी इसके लिए उनको धन्यवाद दिया जाने लगा है.

सरना धर्म कोड के सवाल पर सांसद ने कहा कि ऐसे विषय पर भाजपा गंभीर है. यह ऐसा संवैधानिक विषय है जिस पर काफी गंभीर चिंतन, मंथन की जरूरत है. भावी राष्ट्रपति के तौर पर द्रौपदी मुर्मू जरूर इस पर ठोस विचार करेंगी.

सीएम के लिए परीक्षा की घड़ी

शिवशंकर उरांव ने कहा कि जनजाति समाज के हितों की रक्षा, कल्याण के नाम पर ही सीएम हेमंत सोरेन ने लोगों से मत हासिल किया था. अब उनके सामने परीक्षा की घड़ी है कि वे द्रौपदी मुर्मू के नाम पर खुलकर महागठबंधन के सभी दलों के साथ सामने आयें. राजनीति, विद्वेष से परे होकर राज्य के सभी दल द्रौपदी का समर्थन कर उन्हें राष्ट्रपति बनाने में मदद करें.

इसे भी पढे़ं:  Jamshedpur: पटमदा में एसबीआई ने क‍िया फुटबॉल मैच का आयोजन, तुंगबुरू की टीम ने गोबरघुसी को 2-0 से हराया

Related Articles

Back to top button