JharkhandRanchi

#CM हेमंत सोरेन कारकेड रोककर पहुंचे कुश्ती खिलाड़ी के घर, शिशु आश्रम में बच्चों से भी मिले

Ranchi: मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन बड़ा तालाब के कार्यक्रम के बाद अचानक बिना किसी पूर्व कार्यक्रम के ही आम आदमी की तरह लेक रोड स्थित पहले आंचल शिशु आश्रम और फिर राष्ट्रीय स्तर की कुश्ती खिलाड़ी राखी तिर्की एवं मधु तिर्की के घर पहुंचे.

आंचल शिशु आश्रम में मुख्यमंत्री को अपने बीच पाकर बच्चे खूब खुश हो गये. मुख्यमंत्री ने आश्रम के बच्चों से मिलकर उनकी पढ़ाई-लिखाई और उनकी सुविधाओं के बारे में जानकारी ली.

बच्चों ने मुख्यमंत्री को स्वागत तिलक लगाया और उनके सम्मान में प्रार्थना गीत भी गाया. मुख्यमंत्री ने इनकी हौसला अफजाई करते हुए कहा कि आप आगे और कड़ी मेहनत करें और राज्य व देश के लिए मेडल जीतकर लायें.

उन्होंने इन खिलाड़ियों को भरोसा दिलाया कि आने वाले समय में राज्य के मेधावी खिलाड़ियों को सरकार सुविधाएं प्रदान करेगी.

इसे भी पढ़ें : कागजों में ही सिमटा संजय सेठ का निर्देश, नाराज हेमंत ने कहा- और छोटा न हो बड़ा तालाब

अनाथालयों के प्रमुखों के साथ जल्द ही बैठक करें

मुख्यमंत्री ने मौके पर अधिकारियों को निर्देश दिया कि जल्द ही सभी अनाथालयों के प्रमुखों के साथ बैठक कर इनके संचालन में आने वाली सभी दिक्कतों की जानकारी ली जाये.

आश्रमों में रह रहे बच्चों की पढ़ाई और अन्य बुनियादी सुविधाओं में किसी प्रकार की दिक्कत नहीं आनी चाहिए. मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसी बैठकें नियमित अंतराल पर होती रहनी चाहिए.

adv

इसे भी पढ़ें : #GoodNews: कॉलेज छात्राओं की फीस अब राज्य सरकार देगी, निदेशालय ने सभी विवि से मांगी छात्राओं की सूची

सगी बहने हैं दोनों राष्ट्रीय स्तर की कुश्ती खिलाड़ी

राष्ट्रीय स्तर की कुश्ती खिलाड़ी राखी तिर्की व मधु तिर्की सगी बहनें हैं. दोनों बहनों ने वर्ष 2015 एवं 2016 में कन्याकुमारी और रांची में आयोजित राष्ट्रीय स्तर की कुश्ती प्रतियोगिता में सिल्वर मेडल जीता था.

इसके बाद इन दोनों बहनों का सिलेक्शन इंडिया कैंप में भी हुआ था. ये दोनों बहने राज्य की पहली आदिवासी महिला खिलाड़ी हैं जिन्होंने राष्ट्रीय स्तर के कुश्ती प्रतियोगिता में सिल्वर मेडल जीता था.

इनके पिता मोहन तिर्की मजदूरी करते हैं. वर्तमान में दोनों बहने प्रतिस्पर्धी प्रतियोगिता की तैयारी कर रही हैं. साथ ही, खेलो इंडिया के तहत कोचिंग के लिए भी चुनी गयी हैं.

खिलाड़ियों और खेल को केंद्र में रखकर नीति बनायें

मुख्यमंत्री ने खेल विभाग को यह निर्देश दिया कि प्रतिभाशाली खिलाड़ियों की पहचान कर उनकी प्रतिभा को निखारने के प्रयास करें.

खिलाड़ियों और खेल को केंद्र में रखकर नीति बनायें जिससे झारखण्ड की खेल प्रतिभा विकसित हो सके.

इसे भी पढ़ें : गिरिडीह में #CAA के समर्थन में निकाली गयी रैली के दौरान पथराव, भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: