JharkhandLead NewsRanchiTOP SLIDER

झारखंड की नयी उद्योग नीति का खाका खींचने के लिये सीएम हेमंत उद्योगपतियों से कर रहे चर्चा

दिल्ली में स्टेक होल्डर्स कांफ्रेंस में हिस्सा लेने पहुंचे हैं मुख्यमंत्री

Ranchi : झारखंड विधानसभा के बजट सत्र के छठे दिन कि कार्रवाई के बाद सीएम हेमंत सोरेन देर शाम दिल्ली पहुंचे. उसके बाद 12 बजे से आयोजित स्टेक होल्डर्स कांफ्रेंस में हिस्सा ले रहे हैं. यह समिट राज्य में नयी उद्योग नीति बनाने को लेकर चल रही है. इसमें देश के बड़े उद्यमी हिस्सा ले रहे हैं. स्टेक होल्डर्स समिट में सीएम हेमंत सोरेन के साथ मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, उद्योग सचिव पूजा सिंघल भी शिरकत कर रही हैं.

इस दौरान सीएम हेमंत सोरेन ने ने कहा कि किसी भी राज्य और देश को विकास करने के लिए जो चीजें आवश्यक होती हैं लगभग वो सभी चीजें हमारे राज्य में पहले से ही मौजूद हैं. किसी भी उद्योग को स्थापित करने के लिए हमारे राज्य में कोई कमी नहीं है.

Catalyst IAS
ram janam hospital

The Royal’s
Sanjeevani

किसी भी काम को खुद से करने में भरोसा रखता हूं

उन्होंने कहा कि मैं इस कार्यक्रम में कोई विशेष आमंत्रित सदस्य नहीं हूं. मैंने खुद को यहां आमंत्रित किया है क्योंकि मैं किसी भी काम को खुद से रह कर देख कर करने में भरोसा रखता हूं. यहां मैं खुद रहकर अपनी बातें रखना चाहता हूं और सुझाव सुनना चाहता हूं ताकि राज्य में कुछ ऐसी व्यवस्थाएं तैयार हो सके जहां आपको सहयोग मिले और राज्य के लोगों को आपका सहयोग मिल सके.
इस कांफ्रेंस में उद्योगपतियों को संबोधित करते हुए मुख्य सचिव सुखदेव सिंह ने कहा कि मैं आपको शीशा दिखाकर हीरा बेचने नहीं आया हूं. हम आपको हीरा साफसुथरा करके दिखाना चाहते हैं और पूछना चाहते हैं कि क्या इसकी चमक बढाई जा सकती है.

इसे भी पढ़ें :विधानसभा चुनाव : अन्नाद्रमुक ने भाजपा से किया समझौता, कन्याकुमारी की लोकसभा सीट व 20 विधानसभा सीटें दीं

नहीं मिलेगा पुरानी नीति को विस्तार

बताते चलें कि राज्य में वर्तमान में साल 2016 में बनी उद्योग नीति काम कर रही है. इस उद्योग नीति का कार्यकाल 31 मार्च को समाप्त हो रहा है. वर्तमान राज्य सरकार पुरानी उद्योग नीति को विस्तार देने के पक्ष में नहीं है. अब राज्य में नयी उद्योग नीति बनेगी. इसी नयी उद्योग नीति बनाने को लेकर आज सीएम दिल्ली में उद्योगपतियों से बात कर रहे हैं. सरकार की योजना झारखंड की परिस्थितियों के अनुरूप नई औद्योगिक नीति तैयार करने की है. नीति तैयार होने के बाद इसकी आधिकारिक घोषणा की जायेगी.

इसे भी पढ़ें :नीता अंबानी को डॉक्टर ने कहा था कभी मां नहीं बन सकेंगी, जानिये कैसे बनीं तीन बच्चों की मां

Related Articles

Back to top button