JharkhandNEWSRanchi

सीएम हेमंत ने पकड़ी थी गड़बड़ी, राडार पर पिस्का मोड़ से पलमा और बीजूपाड़ा सड़क निर्माण कराने वाले इंजीनियर व ठेकेदार

एनएचएआई ने खराब राइडिंग क्वालिटी के लिए जवाबदेही तय करने का दिया आदेश

Ad
advt

Ranchi: नेशनल हाइवे 23 पिस्का मोड़ रांची से पलमा (बेड़ो के पहले) और पिस्का मोड़ से बीजूपाड़ा तक बनी फोरलन सड़क बनाने वाले इंजीनियरों-ठेकेदारों पर कार्रवाई होगी. नेशनल हाइवे अथॉरिटी आँफ इंडिया ने इस सड़क के खराब राइडिंग क्वालिटी बनाने पर संबंधित लोगों को चिंह्नित करते हुए जवाबदेही तय करने को कहा है. एनएचएआई ने इसके अलावा अभियंताओं की टीम बनायी है जो सड़क की क्वालिटी की जांच करेगी.

इसे भी पढ़ेंः12th board result: सुप्रीम कोर्ट में आज रोडमैप सौंपेगी समिति, 10वीं,11वीं का परिणाम बनेगा आधार

advt

इसके अलावा एनएचएआई ने दोनों महत्वपूर्ण सड़कों का थर्ड पार्टी आडिट कराने का आदेश दिया है. एनएचआई ने अभियंताओ को कहा है कि वे सड़क की राइडिंग क्वालिटी कैसे सुधारी जाये इस पर अपनी पूरी रिपोर्ट जांच के बाद सौंपे. इस पूरे मामले में तत्कालीन अथॉरिटी इंजीनियर से शो-कॉज किया गया है.

 

advt

सीएम ने पकड़ी थी गड़बड़ी

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन लातेहार के नेतारहाट जाने के क्रम में सड़क की क्वालिटी पर सवाल उठाया था. सीएम ने कहा कि दोनों सड़कों की राइडिंग क्ववालिटी सुधारने को कहा है,ताकि आवागमन बेहतर हो. इसके बाद पथ निर्माण विभाग ने एनएचएआई के अधिकारियों को बैठक कर दिशा-निर्देश दिया था. सीएम के निर्देश के बाद अब एनएचएआई इस दिशा में आगे बढ़ रहा है. खराब सड़क बनाने के लिए जिम्मेदार लोगों पर जवाबदेही तय करते हुए कार्रवाई का आदेश दिया है.

इसे भी पढ़ेंःलॉकडाउन की धज्जियां उड़ाते हुए बियर उड़ाने वाले एएसआई समेत चार पुलिसकर्मी सस्पेंड

2019 में ही दोनों सड़क बनी

मालूम हो कि वर्ष 2019 में पिस्का मोड़ से पलमा तक की करीब 26 किमी बनायी गयी है. इस सड़क की गुणवत्ता पर सवाल खड़े हो रहे है. कंक्रीट बेस्ड सड़क पर खराब राइडिंग क्वालिटी के कारण वाहनों से आवागमन काफी सुगम नहीं है. इस सड़क को मेसर्स आरके. कंस्ट्रक्शन ने बनवाया है. वहीं,पिस्का मोड़ से बीजूपाड़ा तक की सड़क का निर्माण ज्वाइंट वेंचर के जरिये हुआ है. दोनों सड़कों पर करीब 450 करोड़ की लागत आई थी.

advt
Adv

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: