JharkhandRanchi

जेवीएम श्यामली में एंट्रेंस परीक्षा को लेकर सीएम नाराज, कहा- कोरोना वायरस से जुड़े आदेशों को सख्ती से लागू करें डीसी

  • 14 अप्रैल तक शैक्षणिक संस्थान बंद करने का है निर्देश, जेवीएम श्यामली में गुरुवार को थर्ड स्टैंडर्ड के बच्चों के एंट्रेंस परीक्षा

Ranchi : कोरोना वायरस से बचाव को लेकर राज्य सरकार ने 14 अप्रैल तक सभी स्कूलों और अन्य शैक्षणिक संस्थानों को बंद करने का निर्देश दिया है. इसके बावजूद राजधानी के कई स्कूल अब भी खुले हैं. इसे लेकर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने नाराजगी जतायी है. मुख्यमंत्री का यह निर्देश विशेष रूप से राजधानी के प्रतिष्ठित माने जानेवाले जेवीएम श्यामली स्कूल को लेकर दिया है.

इस स्कूल में थर्ड स्टैंडर्ड के बच्चों के एंट्रेंस को लेकर परीक्षा आयोजित की गयी है. मुख्यमंत्री को जेवीएम श्यामली में होनेवाली एंट्रेंस परीक्षा की जानकारी ट्विटर के माध्यम से दी गयी. इस पर मुख्यमंत्री ने नाराजगी जताते हुए रांची डीसी सहित सभी अधिकारियों को निर्देश दिया कि कोरोना वायरस से संबंधित जारी निर्देश का सख्ती से अनुपालन कराना सुनिश्चित करें.

इसे भी पढ़ें – #Coronavirusindia : जानें धनबाद, गिरिडीह, पलामू और बेरमो में कोरोना को लेकर क्या-क्या हुआ

कोरोना वायरस से जुड़ी अफवाहों से बचने की सीएम की अपील

सीएम ने लोगों से अपील की है कि कोरोना वायरस से जुड़ी अफवाहों से बचें. अफवाहों पर ध्यान न देकर सही जानकारी साझा करें. हम सामाजिक सहयोग के माध्यम से इस संक्रमण की रोकथाम कर सकते हैं. कोरोना वायरस से किसी को घबराने की जरूरत नहीं. हमें सदैव सजग और सचेत रहना है.

इसे भी पढ़ें – कृषि विभाग के फील्ड सुपरवाइजर को 40 हजार रुपया घूस लेते एसीबी ने किया गिरफ्तार

स्वास्थ्य सेवा देने के लिए बनायें रणनीति

मुख्यमंत्री ने डीसी चाईबासा को जिला में सुलभ स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराने के दिशा में रणनीति बनाने का निर्देश दिया है. जिले में एक गर्भवती महिला के प्रसव के लिए एंबुलेंस नहीं होने पर मौत की खबर पर सीएम सोरेन ने कहा कि यह जानना जरूरी है कि चूक कहां और क्यों हो रही है. उन्होंने कहा कि उनकी जानकारी में राज्य में पर्याप्त ममता वाहन की उपलब्धता भी है. लेकिन फिर भी ऐसी स्थिति का होना शर्मनाक है. उन्होंने चाईबासा डीसी सहित सभी जिले के अधिकारियों को कहा है कि वे 108 एम्बुलेंस के साथ ममता वाहन की समीक्षा कर लोगों को सेवा प्रदान करने की दिशा में रणनीति बनायें. ताकि भविष्य में ऐसे मामलों पर विराम लगे.

ममता वाहन नहीं मिला..तब दिया निर्देश

बता दें कि सीएम को जानकारी दी गयी कि गुदड़ी प्रखंड स्थित कीचिंडा गांव निवासी दानियाल बरजो को समय पर एम्बुलेंस/ममता वाहन नहीं मिलने की वजह से उसकी मौत हो गयी थी. उस वक्त वह गर्भवती थी. इस मामले की गंभीरता को देखते हुए मुख्यमंत्री ने चाईबासा डीसी को मामले की जांच कर कड़ी कार्रवाई करते हुए सूचित करने का आदेश भी दिया.

इसे भी पढ़ें – जल्द ही न्यायालय के समक्ष सरेंडर कर सकते हैं भाजपा विधायक ढुल्लू महतो

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button