DumkaJharkhand

दुमका बस पड़ाव का नाम संताल हूल के नायकों के नाम करने की मांग

Dumka : सारजोम बेडा क्लब, दुमका के अध्यक्ष ब्रहमदेव सोरेन की अध्यक्षता में दुमका बस पड़ाव के नामकरण को लेकर बैठक की गयी.

क्लब ने सर्वसम्मति से मांग की कि दुमका बस पड़ाव का नाम अटल बिहारी वाजपेयी बस पड़ाव से परिवर्तित कर संताल हूल के महानायक स्वतंत्रता सेनानी सिदो-कान्हू मुर्मू, चांद-भैरो मुर्मू, फूलो-झानो मुर्मू के नाम समर्पित किया जाय.

इसे भी पढ़ें : रांचीः पिटायी के विरोध में प्रदर्शन कर रहे एक समुदाय के लोगों ने कई को पीटा, चाकू मार एक को किया घायल

प्रधानमंत्री ने मन की बात में किया वीरों को याद

क्लब ने आगे कहा इस बार संताल हूल दिवस पर स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने वीर सिदो-कान्हू, चांद-भैरव और वीरांगना फूलो-झानो तथा झारखण्ड उलगुलान के नायक धरती आबा भगवान बिरसा मुंडा को ‘मन की बात’ में याद किया. इसके लिए झारखंडी शुक्रगुजार हैं.

इसके साथ-साथ झारखंड की राज्यपाल श्रीमती द्रौपदी मुर्मू स्वयं हूल दिवस मनाने संताल हूल की धरती दुमका आयीं और कहा कि इतिहास को फिर से लिखे जाने की जरुरत है ताकि महानायको के संघर्ष को सम्मान मिल सके.

क्लब ने आगे कहा अगर वास्तव में संताल हूल के महानायकों को सम्मान देना चाहते हैं तो फिर दुमका बस पड़ाव का नाम संताल हूल के महानायको के नाम क्यों नहीं? जब तक विभिन्न सरकारी योजनाओं और जगहों का नाम इन महानायको के नाम नही किया जायगा तो इनकी वीर गाथा को कौन याद करेगा और कैसे सम्मान मिलेगा?

इसे भी पढ़ें : GOOD NEWS : सीएम ने कहा, अगले छह महीनों के भीतर होंगी 15,139 नियुक्तियां

क्लब ने दिये ये सुझाव

(1) दुमका का बस स्टैंड उक्त स्वतंत्रता सेनानियों के नाम हो.

(2) ट्रेनों का नाम उन स्वतंत्रता सेनानियों के नाम पर हों.

(3) केंद्र और राज्य सरकार की योजनाओ को उन स्वतंत्रता सेनानियों के नाम समर्पित किया जाय.

(4) शिक्षा के क्षेत्र में स्कॉलरशिप उन स्वतंत्रता सेनानियों के नाम समर्पित हो.

(5 ) खेल क्षेत्र में अवार्ड उन स्वतंत्रता सेनानियों के नाम समर्पित हो.

(5 ) शहर/गांव के स्कूल, मेडिकल कॉलेज/कॉलेज उन स्वतंत्रता सेनानियों के नाम समर्पित करें.

(6) सरकार के विभिन्य वेबसाइटो में उन स्वतंत्रता सेनानियों के नाम व फोटो हों.

(7) चौक-चौराहे उन स्वतंत्रता सेनानियों के नाम समर्पित हों.

(8) स्वतंत्रता सेनानियों के वंशजों को आत्मनिर्भर बनाया जाय.

सरकार को लिखित आवेदन देगा क्लब

क्लब जल्द ही सरकार, प्रशासन और नगरपालिका को अपनी मांग को लेकर लिखित आवेदन देगा. बैठक में क्लब के अध्यक्ष ब्रह्मदेव सोरेन के साथ क्रिसटोफर टुडू, वीरेन्द्र टुडू, राजेश सोरेन, निकसोन सोरेन, राहुल मुंशी टुडू, राजू मुर्मू, प्रवीन मुर्मू, मिठुन तिर्की, सेम मुर्मू, कृष्णा मुर्मू, राजेश टुडू, नोवेल किशोर हांसदा, संदीप हांसदा, मेडी, पीटर टुडू के साथ क्लब के कई सदस्य उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें : नक्सल प्रभावित इलाकों में सिर्फ कागजों में है सरयू एक्शन प्लान, बकोरिया फर्जी नक्सल मुठभेड में मारे गये पांचों नाबालिग इसी इलाके के

Related Articles

Back to top button