न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

स्वच्छ भारत वर्ल्ड टॉयलेट डे प्रतियोगिता में लोहरदगा और हजारीबाग टॉप 12 जिलों में

1,691
  • कोडरमा, सिमडेगा और रामगढ़ टॉप 30 जिलों में
  • पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय की ओर से देश में आयोजित की गयी प्रतियोगिता

Ranchi: पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय की ओर से स्वच्छ भारत वर्ल्ड टॉयलेट डे प्रतियोगिता का आयोजन देश भर में किया गया. आयोजन 9 से 19 नवंबर तक किया गया. इसमें 25 राज्यों के 412 जिलों ने भाग लिया. दस दिवसीय प्रतियोगिता के परिणाम जारी किए गये. इसमें टॉप 12 जिलों में राज्य से लोहरदगा और हजारीबाग ने स्थान बनाया है. टॉप 12 अन्य जिलों में पश्चिम बंगाल से बांकुड़ा और मुर्शीदाबाद, उत्तर प्रदेश से गाजियाबाद, बिहार से जहानाबाद, उड़ीसा से कंधामल, जम्मु कश्मीर से गांदरबल, कर्नाटक से कोडागु, तमिलनाडु से सलेम, महाराष्ट्र से संगली और मेघालय से दक्षिणी पश्चिम खासी ने स्थान बनाया है. प्रतियोगिता का आयोजन स्वच्छ भारत मिशन अभियान के पांच साल पूरे होने के उपलक्ष्य में किया गया था.

अन्य टॉप 30 जिलों में रामगढ़, सिमडेगा और कोडरमा ने बनाया स्थान

प्रतियोगिता में दस प्रतिशत के अनुसार अन्य 30 जिलों को स्थान मिला है. इनमें रामगढ, सिमडेगा़ और कोडरमा ने स्थान बनाया है. इसके साथ ही आंध्र प्रदेश से अनंतपुर और कृष्णा, हरियाणा से भिवानी, फरीदाबाद, करनाल, पंचकुला, पानीपत. पष्चिम बंगाल से कूच बिहार, दमन दीव से दीव, उत्तर प्रदेश से फर्रूखाबाद, कौशाम्बी  और संत रविदास नगर, कर्नाटक से गडग, उड़ीसा से झरसागुड़ा, मयूरभंज और खुर्दा, महाराष्ट्र से कोल्हापुर, नादेड़ और वर्धा, गुजरात से वलसद और तमिलनाडु से रामानाथपुरम, तंजावुर, तिरूवनमल्लाई, पेरम्बूर और थेनी ने स्थान बनाया है.

प्रतियोगिता में ये राज्य नहीं हुए थे शामिल : राजस्थान, मध्य प्रदेश , तेलांगना, छत्तीसगढ़ और मिजोरम प्रतियोगिता में शामिल नहीं हुए थे.

ये थे प्रतियोगिता के मानक

प्रतियोगिता के दौरान प्रतिभागी जिलों में जनता के बीच स्वच्छता जागरूकता कार्यक्रम, स्वच्छता चैंपियनशिप  कार्यक्रम, वेस्ट कलेक्शन, शुरुआती स्तर पर बॉयोगैस यूनिट की पड़ताल की गयी. इसमें उपायुक्त, राज्य मिशन निदेशक, आइइसी कंसल्टेंट की महत्वपूर्ण भूमिका रही.

इसे भी पढ़ेंः न्यायालय राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद मालिकाना विवाद मामले की शुक्रवार को करेगा सुनवाई

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: