न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

  सीनियर वकील धवन से बोले सीजेआई गोगोई, हम चेयर छोड़ने के बाद वकीलों से बात नहीं करते…

जब बेंच के जज लंच के लिए उठे तो धवन ने कुछ कहना चाहा, लेकिन सीजेआई वहां से निकल गये. जब कोर्ट दोबारा शुरू हुआ तो जस्टिस गोगोई ने धवन से पूछा, जी मिस्टर धवन, आप कुछ कह रहे थे.

33

NewDelhi : सीजेआई रंजन गोगोई और वरिष्ठ वकील राजीव धवन के बीच कल कोर्ट में मजेदार बातें होने की खबर है. बताया गया है कि बुधवार को सीजेआई रंजन गोगोई ने राजीव धवन से कहा कि वह अपनी चेयर से खड़े होने के बाद वकीलों से बात नहीं करते.  न्यूज 18 की रिपोर्ट के अनुसार  सीजेआई ने राजीव धवन से कहा, हम खड़े होकर वकीलों से बात नहीं करते. हम बैठकर वकीलों से बातचीत करते हैं.  हमारा यही तरीका रहा है्. इसके जवाब में धवन ने कहा, अगर ऐसा है तो हम वकीलों को चेतावनी दी जानी चाहिए थी. जानकारी दी गयी है कि  यह बातचीत उस वक्त शुरू हुई, जब लंच ब्रेक के बाद जस्टिस गोगोई अपने कोर्ट में पहुंचे. इससे एक घंटे पूर्व जब बेंच के जज लंच के लिए उठे तो धवन ने कुछ कहना चाहा, लेकिन सीजेआई वहां से निकल गये. जब कोर्ट दोबारा शुरू हुआ तो जस्टिस गोगोई ने धवन से पूछा, जी मिस्टर धवन, आप कुछ कह रहे थे.

नहीं मी लॉर्ड, कुछ नहीं. मैं किसी चीज का जिक्र करना चाहता था

इस पर धवन ने जवाब दिया, नहीं मी लॉर्ड, कुछ नहीं. मैं किसी चीज का जिक्र करना चाहता था लेकिन आप चले गये. इसलिए फिलहाल कहने के लिए कुछ नहीं है. इस पर सीजेआई का जवाब था, जब आप कुछ कहना चाहते थे तो हम खड़े हो चुके थे. खड़े होने के बाद बातचीत करना सही नहीं है. इस क्रम में धवन ने सीजेआई रंजन गोगोई को  जवाब दिया, मुझे नहीं पता कि यह सही है या नहीं, लेकिन मैं यह कह सकता हूं कि अलग-अलग चीफ जस्टिस इस अदालत में अलग तरीके अपनाते रहे हैं. तब सीजेआई ने जवाब दिया, हम खड़े होकर वकीलों से बात नहीं करते. हम बैठकर वकीलों से बात करते हैं. हमारा यही तरीका है. हम खड़े रहने के दौरान बात नहीं करते. जानकारी के अनुसार राजीव धवन अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के अल्पसंख्यक दर्जे से जुड़े मामले में सीजेआई से कुछ कहना चाहते थे.

Related Posts

डॉ  कलबुर्गी मर्डर केस  :  एसआईटी के आरोपपत्र में दावा,  हिंदू चरमपंथी संगठन की पुस्तक क्षत्रिय धर्म साधना से प्रेरित थे  आरोपी

एसआईटी के एक बयान के अनुसार इस  मामले के अन्य आरोपियों में अमोल काले, प्रवीण प्रकाश चतुर, वासुदेव भगवान सूर्यवंशी, शरद कालस्कर और अमित रामचंद्र बड्डी भी शामिल हैं. 

SMILE

इसे भी पढ़ें ; टाइम्स नाउ वीएमआर सर्वे : एनडीए को झारखंड-बिहार12  सीटों का नुकसान, राजद-कांग्रेस फायदे में

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: