JharkhandNEWSRanchiTOP SLIDER

सिविल सर्जन रांची को मिली सजा,जाने क्यों

Ranchi: सिविल सर्जन रांची डॉ विनोद कुमार की परेशानियां कम होने का नाम नहीं ले रही है। बड़ी संख्या में डॉक्टरों और स्टाफ के ट्रांसफर को लेकर विवाद में घिरने के बाद अब स्वास्थ्य विभाग को कर्मचारियों का पेंशन प्रपत्र उपलब्ध नहीं कराने के मामले में रांची के सिविल सर्जन के खिलाफ कार्रवाई की गई है। जिसमें सरकार के ज्वाइंट सेक्रेटरी ने सिविल सर्जन पर कार्रवाई करते हुए उन्हें निंदन की सजा सुनाई है।
बताते चलें कि सिविल सर्जन के विरूद्ध स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग के अधीनस्थ रिटायर होने वाले मेडिकल आफिसरों के पेंशन या उपादान की स्वीकृति हेतु पेंशन प्रपत्र उपलब्ध नहीं कराने के आलोक में आरोप पत्र गठित करते हुए स्पष्टीकरण मांगा गया था। इसके आलोक में सिविल सर्जन ने स्पष्टीकरण दिया। लेकिन विभाग ने उसे संतोषप्रद नहीं पाया। वहीं स्पष्टीकरण की समीक्षा करते हुए उनपर कार्रवाई की गई।

यह भी पढ़े: Xavier Aptitude Test 2023: अगर एक्सएलआरआई में दाखिला लेना हो तो हो जाइए तैयार, 10 अगस्‍त से जैट का शुरू होगा रजिस्ट्रेशन, ये रही पूरी जानकारी

पूर्व में डॉक्टरों और स्टॉफ के ट्रांसफर मामले में भी हुआ था विवाद

7 जुलाई 2022 को रांची के सिविल सर्जन डॉ विनोद कुमार की अध्यक्षता में बनी पांच सदस्यीय स्थापना समिति ने बड़ी संख्या में रांची के डॉक्टरों और स्टाफ का ट्रांसफर कर दिया था। कार्यालय से आदेश भी निकल गया।  लिस्ट जारी होने के बाद यह विवादों में आ गया। इसके बाद सिविल सर्जन ने अपने ही हस्ताक्षर से जारी ट्रांसफर के आदेश को वापस ले लिया।

Sanjeevani

Related Articles

Back to top button