न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आरआरडीए के हर प्रस्ताव को नामंजूर कर रहा नगर विकास विभाग, नहीं हो पा रहा सीएम के निर्देशों का पालन

460

Ranchi : मुख्यमंत्री रघुवर दास ने अक्टूकबर 2017 में आरआरडीए के कार्यों की समीक्षा करते हुए कहा था कि इस संस्थाेन को मजबूत किया जायेगा. सीएम के निर्देश के बाद आरआरडीए ने नगर विकास विभाग को कई प्रस्ताथव भेजे, जिन्हें विभाग ने नामंजूर कर दिया. हाल यह है कि आज आरआरडीए के पास ग्रामीण क्षेत्रों के भवन निर्माण के नक्शेि पास करने के अलावा कोई काम नहीं रह गया है. नक्शार पास करने का काम भी यहां ठीक से नहीं हो पा रहा है.

इसे भी पढ़ें- बाबाधाम और वासुकिनाथ का श्रावणी मेला विश्व स्तर पर जाना जाये : मुख्यमंत्री

अफोर्डेबल हाउसिंग अपार्टमेंट बनाने के लिए जमीन लेने के प्रस्ताव को भी नगर विकास विभाग ने ठुकराया

hosp1

आरआरडीए को नगर विकास विभाग ही कोई काम करने का अधिकार नहीं दे रहा है. हर प्रस्ताव, जो आरआरडीए बोर्ड द्वारा तय कर नगर विकास विभाग को भेजा जा रहा है, विभाग उसे नामंजूर कर दे रहा है. अफोर्डेबल हाउसिंग अपार्टमेंट बनाने के लिए आरआरडीए बोर्ड से एचईसी से पीपीपी मोड पर जमीन लेने का प्रस्ताव विभाग को दिया गया, जिसे विभाग ने एनओसी नहीं दिया. बाद में आरआरडीए ने खुद 10 एकड़ जमीन खरीदने का प्रस्ताव बोर्ड से पास कर विभाग को भेजा, लेकिन बोर्ड के इस प्रस्ताव को भी नगर विकास विभाग ने नामंजूर कर दिया.

इसे भी पढ़ें- घोषणा कर भूल गयी सरकारः 12 जुलाई 2016 : वादा किया था हाई स्कूल में 18584 और कस्तूरबा स्कूल के 2233…

सीएम के निर्देश का भी नहीं हो रहा पालन

पिछले साल 23 अक्टू बर को मुख्यमंत्री रघुवर दास ने आरआरडीएक को आर्थिक रूप से मजबूत करने के लिए बैठक की थी. तब मुख्यूमंत्री ने अधिकारियों को कई निर्देश दिये थे, जैसे-
• रांची के ग्रामीण क्षेत्रों में बेहतर नागरिक सुविधाएं, यातायात और जल निकास प्रणाली विकसित करें.
• गांवों में छोटे-छोटे पार्क विकसित करें.
• जमीन का अधिग्रहण कर उसे विकसित करें और हर सुविधाएं लोगों को मुहैया करायें.
• आरआरडीए के क्षेत्र में आनेवाले 170 गांवों का मास्टर प्लान तैयार करें. वहां सोलर लाइट की व्यावस्थाय करें.
• सीठियो और नचियातू में मकान, पार्क आदि बनाने को लेकर भी निर्देश दिये गये थे.
मुख्यमंत्री के इन आदेशों के मद्देनजर आरआरडीए ने नगर विकास विभाग को प्रस्ताेव तो दिये, लेकिन विभाग ने उसे भी नामंजूर कर दिया.

इसे भी पढ़ें- अब बीएसएनएल के लैंडलाइन फोन भी हो जायेंगे ‘स्मार्ट’

नक्शा पास करने का काम भी सही से नहीं हो रहा

आरआरडीए के पास अभी सिर्फ नक्शा पास करने का अधिकार है. यह काम भी आरआरडीए में सही से नहीं हो रहा है. यहां कई नक्शे पेंडिंग हैं. यहां सभी नक्शा पास करने का काम ऑनलाइन होता. ऑनलाइन नक्शाथ पास कराने की प्रक्रिया में सॉफ्टवेयर में गड़बड़ी की वजह से लोग भाग-दौड़ करते-करते थक जाते हैं, इसके बावजूद भी उनके नक्शे् पास नहीं हो पा रहे हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: